hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

जितनी : उतनी
ज्ञानेंद्रपति


दिवस-छोरों पर
जितनी उषाएँ हैं
उतनी संध्याएँ हैं -
मनस-कोरों पर भी

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ज्ञानेंद्रपति की रचनाएँ