hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

चाँद-किरन
देवेंद्र कुमार बंगाली


रूठो मत प्रान! पास में रहकर
झरती हैं चाँद-किरन झर...झर...झर...।

        सेंदुर की नदी, झील ईंगुर की
        माथे तुम्‍हारे तुम सागर की
        चूड़ी-सी चढ़कर कलाई पर
             टूटो मत प्रान! पास में रहकर
             झरती हैं चाँद-किरन झर...झर...झर...।

        आँखों की शाख, देह का तना
        टप्-टप्-टप् महुवे का टपकना।
        मेरे हाथों हल्‍दी-सी लगकर
             छूटो मत प्रान! पास में रहकर
             झरती हैं चाँद-किरन झर...झर...झर...।
       
        एक घूँट जल हो तो पीये
        कब तक कोई छल में जीये
        टूटे समंदर, टूटे निर्झर
             दो मत तुम प्रान! पास में रहकर
             झरती हैं चाँद-किरन झर...झर...झर...।

 


End Text   End Text    End Text