डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

फिर फूटी पौ
देवेंद्र कुमार बंगाली


फिर फूटी पौ
दूर कहीं जल उठी
अँधेरे की
लौ।

घर, मंडप, द्वार सजे
हवा चली, पत्तों के बेशुमार
झाँझ बजे,
गीत ग़ज़ल, शहनाई
कूक उठी तनहाई
फूट पड़ा कंठों से
ओ ! नहीं
औ !!

ताल, कदम कुआँ उठा
चौके में सेंध पड़ी
छप्‍पर से
धुआँ उठा।
बागों की ठाट-बाट
दिन का ऊँचा ललाट
मिनती के सुबह-शाम
गिनती के सौ !!

चउरे पर, वेदी पर
खोल खूँट का अक्षत
भाखने लगा खंडहर
दाएँ अरती-परती
बाएँ हुई धरती
पाँच फूल लवँग
और एक दिया
जौ!!

 


End Text   End Text    End Text