hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

औरत की प्रतीक्षा में चाँद
अनुज लुगुन


उस रात आसमान को एकटक ताकते हुए|
वह जमीन पर अपने बच्चों और पति के साथ लेटी हुई थी
उसने देखा आसमान
स्थिर, शांत और सूनेपन से भरा था
तब वह कुछ सोचकर
अपनी चूड़ियाँ, बालियाँ, बिंदी और थोड़ा-सा काजल
उसके बदन पर टाँक आई
और आसमान
पहले से ज्यादा सुंदर हो गया,

रात के आधे पहर जंगल के बीच
जब सब कुछ पसर गया था
छोटी-छोटी पहाड़ियों की तलहटी में बसे
इस गाँव से होकर गुजरती हवाओं को
वह अपने बच्चों और पति के लिए तराश रही थी
उसी समय चाँद उसके पास चुपके से आया
और बोला -
"सुनो! हजार साल से ज्यादा हो गए
एक ही तरह से उठते-बैठते, चलते,
खाते-पीते और बतियाते हुए
तुम्हारा हुनर मुझे नए तरीके से
सुंदर और जीवंत करेगा
तुम मुझे तराश दो",

वह औरत अपने बच्चों और पति की ओर देख कर बोली -
"मैं कुछ देर पहले ही पति के साथ
खेत से काम कर लौटी हूँ और
अभी-अभी अपने बच्चों और पति को सुलाई हूँ
सब सो रहे हैं अब मुझे घर की पहरेदारी करनी है
इसलिए जब मैं खाली हो जाऊँ
तब तुम्हारा काम कर दूँगी
अभी तुम जाओ"
और चाँद चला गया उस औरत की प्रतीक्षा में,

चाँद आज भी उस औरत की प्रतीक्षा में है।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अनुज लुगुन की रचनाएँ