hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

यह पलाश के फूलने का समय है
अनुज लुगुन


1.

जंगल में कोयल कूक रही है
जाम की डालियों पर
पपीहे छुआ-छुई खेल रहे हैं
गिलहरियों की धमा-चौकड़ी
पंडुओं की नींद तोड़ रही है
यह पलाश के फूलने का समय है।

यह पलाश के फूलने का समय है
उनके जूड़े में खोंसी हुई है
सखुए की टहनी
कानों में सरहुल की बाली
अखाड़े में इतराती हुईं वे
किसी भी जवान मर्द से कह सकती हैं
अपने लिए एक दोना
हँड़िया का रस बचाए रखने के लिए
यह पलाश के फूलने का समय है।

यह पलाश के फूलने का समय है
उछलती हुईं वे
गोबर लीप रही हैं
उनका मन सिर पर ढोए
चुएँ के पानी की तरह छलक रहा है
सरना में पूजा के लिए
साखू के पेड़ों पर वे बाँस के तिनके नचा रही हैं
यह पलाश के फूलने क समय है।


2.

यह पलाश के फूलने का समय है
रेत पर बने बच्चों के घरौंदों से
उठ रहा है धुआँ
हवाओं में घुल रहा है बारूद
चट्टानों से रिसते पानी पर
सूरज की चमक लाल है और
जंगल की पगडंडियों में दिखाई पड़ता है दंतेवाड़ा
यह पलाश के फूलने का समय है।

यह पलाश के फूलने का समय है।
नियमगिरि से निकले नदी के तट पर
कंदू पक कर लाल है हट चुकी है मकड़े की जाली
गुफाओं की खबर है
खदानों में वेदांता का विज्ञापन टँगा है,
साखू के सागर सारंडा की लहरों में
बिछ गई हैं बारूदी सुरंगें
हर दस्तक का रंग यहाँ लाल है।

यह पलाश के फूलने का समय है।
दूर-दूर तक जंगल का
हर कोना पलाश है
साखू पलाश है
केंदू पलाश है
पलाश आग है
आग पलाश है
जंगल में पलाश के फूल को देख
आप भ्रमित हो सकते हैं कि
जंगल जल रहा है
जंगल में जलते आग को देख
आप कतई न समझें पलाश फूल रहा है
यह पलाश के फूलने का समय है
और, जंगल जल रहा है।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अनुज लुगुन की रचनाएँ