hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

टार्च
अरुण देव


उजाले में यों ही पड़ा था आँखें बंद किए
जैसे वह कुछ हो ही नहीं
उसे तो जैसे अँधेरे की प्रतीक्षा भी नहीं
कि रोशन हो सके उसका होना

हाँ अगर अँधेरा घिर आए
सूझे न रास्ता
उजाले तक न पहुँच पाए हाथ
वह आ जाता है खुश-खुश
और तब भी दिखती है रोशनी
वह कहाँ दिखता है

कभी-कभी फोकस ठीक करना होता है
काटनी होती है कालिमा
नहीं तो बिखर जाता है प्रकाश
धुँधला पड़ जाता लक्ष्य

वह है वहाँ अब भी जहाँ चमक-दमक कम है
अँधेरी रात में उसके सहारे
किसी पगडंडी पर चल कर देखो
तब दिखता है उसका होना

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अरुण देव की रचनाएँ