hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

ओ! धरती
अरुण देव


(महाकवि जयशंकर प्रसाद के स्मरण में)


1 .

त्रिकुटी को कुतरता है कीड़ा
हथेलियों से रेंगता हुआ धीरे-धीरे चढ़ आया है ऊपर
शिराओं में छोड़ता हुआ विष

चेहरे को ढक लेती है कालिमा
पलकों पर लद गई हैं आँखें, उनके भार से काँपते हैं पैर

पृथ्वी की अँधेरी सुनसान रेत पर गिरती हैं रोशनियाँ उल्कापात की तरह

सुबह के स्वागत में एक भी हरी पत्ती नहीं
कहीं कोई बीज नहीं भविष्य का
अंकुरण के मुहाने धुएँ से अटे पड़े हैं।


2 .

बोझिल पलकों पर टप-टप बजता है जल
जो जलकुंभी के अंदर
बाहर के पानी से डरकर छिपा था

रेत पर जर्जर पीपल का एक पत्ता अपनी थकी शिराओं से पीता है उसे
उसके होंठ जरा हिले हैं

पत्ता खोजेगा अपने लिए एक टहनी
टहनी को चाहिए तना
मुझे लानी है गहरी धँसी हुई जड़ें

रेत से एक आवाज आई है कोंपल की
उसके रक्ताभ होंठों पर सूरज की उजली किरण है।


3.

मछलियाँ तट से उचक-उचक देखती हैं
पिघलते पहाड़ को
वह पूरा का पूरा समा जाएगा जल में

जल से जल तक की उसकी यात्रा में जल ही बचेगा
उस जल की अँजुरी से छलाँग लगाकर बाहर आ गई है वह रंगीन शल्क वाली मछली

जल का सूखा कण धीरे-धीरे आर्द्र होता है ऑक्सीजन से
मछली के गलफड़े हिलते हैं धीरे-धीरे


4.

धरती पर पहले बारिश की चिकनाहट है
उसने अपनी काया पर लपेट ली है बादलों की नजर
सूरज डूब रहा है उसके तारुण्य में

धवल बादल थोड़ा ओट होते ही
धरती की देह पर धारदार बरस रहे हैं
भिगोते हुए उसके उतुंग पहाड़
भर गए हैं उसकी घाटी में

हरे पत्तों से ढक लेती है वह अपना अधखुला अंग

चंद्रमा सूरज की किरणों के जाल में घिरा
चाहकर भी अपने दाग नहीं छिपा पाता
अपनी चमक में खुद ही उसका गिरते जाना
धरती ने देखा है


5.

चंद्रमा परिश्रम से थकी पृथ्वी को
निर्वस्त्र कर देता है पूर्णिमा तक आते-आते
वह बादलों को पार करके उतर आया है
धरती के तन पर


6.

चंद्रमा के सपने के बाहर
सुबह की खिली हुई धूप में धरती सुनहरी है
पक्षियों के गान उसके कंठ के घाव को धीरे धीरे भर रहे हैं
पशुओं की देह पर उग आए हैं रोम
हाथिओं के दाँत बढ़ रहे हैं बेखौफ

बहुत दिनों के बाद लौटा है गिद्ध

कौए अपने काले पंख देखकर खुश हैं
अभयारण्य से बाहर शेर की दहाड़ से धरती खुश है

बंदरों के लिए कोई भी जगह निषिद्ध नहीं
मछलियाँ उछलती और गिर पड़ती हैं पानी में
उनके छपाक-छपाक के बीच कहीं कोई जाल या काँटा नहीं

चूजे अपनी पूरी उम्र पाने की उम्मीद में
इधर उधर फुदक रहे हैं

धरती खिली, खुली, भरी सी घूम रही है अपनी धुरी पर
सूरज और चाँद से एक निश्चित दूरी पर

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अरुण देव की रचनाएँ