hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

वैचारिकी

मेरे सपनों का भारत
मोहनदास करमचंद गांधी

अनुक्रम 42 शहरों की सफाई पीछे     आगे

पश्चिम से हम एक चीज जरूर सीख सकते हैं और वह हमें सीखनी ही चाहिए - वह है शहरों की सफाई का शास्‍त्र। पश्चिम के लोगों ने सामुदायिक आरोग्‍य और सफाई का एक शास्‍त्र ही तैयार कर लिया है, जिससे हमें बहुत-कुछ सीखना है। बेशक, सफाई की पश्चिम की पद्धतियों को हम अपनी आवश्‍यकताओं के अनुसार बदल सकते हैं।

'भगवान के प्रेम के बाद महत्‍त्‍व की दृष्टि से दूसरा स्‍थान स्‍वच्‍छता के प्रेम का ही है।'जिस तरह हमार मन मलिन हो तो हम भगवान का प्रेम संपादित नहीं कर सकते, उसी तरह हमारा शरीर मलिन हो तो भी हम उसका आशीर्वाद नहीं पा सकते। और शहर अस्‍वच्‍छ हो तो शरीर स्‍वच्‍छ रहता संभव नहीं है।

कोई भी म्‍युनिसिपैलिटी शहर की अस्‍वच्‍छता और आबादी की सघनता का सवाल महज टैक्‍स वसूल करके और सफाई का काम करने वाले नौकरों को रखकर हल करने की आशा नहीं कर सकती। यह जरूरी सुधार तो अमीर और गरीब, सब लोगों के संपूर्ण और स्‍वेच्‍छापूर्ण सहयोग द्वारा ही शक्‍य है।

हम अछूत भाइयों की बस्‍ती वाले गाँवों की सफाई करते हैं यह अच्‍छा है। पर वह काफी नहीं हैं। अछूत लोग समझाने-बुझाने से समझ जाते हैं। क्‍या हमें यह कहना पड़ेगा कि तथाकथिक उच्‍च जातियों के लोग समझाने-बुझाने से नहीं समझते; या कि शहर का जीवन बिताने के लिए आरोग्‍य और सफाई के जिन नियमों का पालन करना जरूरी है वे उन पर लागू नहीं है? गाँवों में तो हम कई बातें किसी किस्‍म का खतरा उठाए बिना कर सकते हैं। लेकिन शहरों की घनी आबादी वाली तंग गलियों में जहाँ साँस लेने के लिए साफ हवा मुश्किल से मिलती है, हम ऐसा नहीं कर सकते। वहाँ का जीवन दूसरे प्रकार का है और वहाँ हमें सफाई के ज्‍यादा बारीक नियमों का पालन करना चाहिए। क्‍या हम ऐसा कर सकते हैं? भारत के हर एक शहर के मध्‍यवर्ती भागों में सफाई की जो दयनीय स्थिति दिखाई देती है, उसकी जिम्‍मेदारी हम म्‍युनिसिपैलिटी पर नहीं डाल सकते। और मेरा खयाल है कि दुनिया की कोई भी म्‍युनिसि‍पैलिटि लोगों के अमुक वर्ग की उन आदतों का प्रतिकार नहीं कर सकती, जो उन्‍हें पीढ़ियों की परंपरा से मिली है। .. इसलिए मैं कहना चहता हूँ कि अगर हम अपने म्‍युनिसिपैलिटीयों से यह उम्‍मीद करते हो कि इन बड़े शहरों में जो सफाई-संबंधी सुधार का सवाल पेश है उसे वे इस स्‍वेच्‍छापूर्ण सहयोग की मदद के बिना ही हल कर लेंगी तो यह अशक्‍य अलबत्‍ता,मेरा मतलब यह बिलकुल नहीं है कि म्‍युनिसिपैलिटीयों की इस संबंध में कोई जिम्‍मेदारी नहीं है।

मुझे म्‍युनिसिपैलिटी की प्रवृत्तियों में बहुत दिलचस्‍पी है। म्‍युनिसिपैलिटी का सदस्‍य होना सचमुच बड़ा सौभाग्‍य है। लेकिन सार्वजनिक जीवन का अनुभव रखने वाले व्‍यक्ति के नाते मैं आप से यह भी कह दूँ कि इस सौभाग्‍यपूर्ण अधिकार के उचित निर्वाह की एक अनिर्वाय शर्त यह हैकि इन सदस्‍यों को इस पद से कोई निजि स्‍वार्थ साधने की अच्‍छा न रखनी चाहिए। उन्‍हें अपना कार्य सेवाभाव से ही करना चाहिए। तभी उसकी पवित्रता कायम रहेगी। उन्‍हें अपने को शहर की सफाई का काम करने वाली भंगी कहने में गौरव का अनुभव करना चाहिए। मेरी मातृभाषा में म्‍युनिसिपैलिटी का एक सार्थक नाम है; लोग उसे 'कचरा-पट्टी'कहते हैं, जिसका मतलब है भंगियों का विभाग। सचमुच म्‍युनिसिलिटी की सफाई-काम करने वाली एक प्रमुख संस्‍था होना ही चाहिए और उसमें न सिर्फ शहर की बाहरी सफाई का बल्कि सामाजिक और सार्वजनिक जीवन की भीतरी सफाई का भी समावेश होना चाहिए।

यदि मैं किसी म्‍युनिसिलि‍टी या लोकल बोर्ड की सीमा में रहने वाला उसका करदाता होता, तो जब तक करके रूप में हम इन संस्‍थाओं को जो पैसा देते हैं वह उससे चौगुनी सेवाओं के रूप में न लौटाया जाता तब तक अतिरिक्‍त कर के रूप में एक पाई भी ज्‍यादा देने से मैं इनकार कर देता और दूसरों को भी ऐसा ही करने की सलाह देता। जो लोगा लोकल बोर्डों या म्‍युनिसिपैलिटीयों में प्रतिनिधियों की हैसियल से जाते हैं, वे वहाँ प्रतिष्‍ठा के लालच से या आपस में लड़ने-झगड़ने के लिए नहीं जाते, बल्कि नागरिकों की प्रेमपूर्ण सेवा करने के लिए जाते हैं। यह सेवा पैसे पर आधार नहीं रखती। हमारा देश गरीब है। अगर म्‍युनिसिपैलिटयों में जाने वाले सदस्‍यों में सेवा की भावना हो, तो वे अवैतनिक मेहतर, भंगी और सड़कें बनाने वाले बन जाएँगे और उसमें गौरव का अनुभव करेंगे। वे दूसरे सदस्‍यों को, जो कांग्रेस के टिकिट पर न चुने गए हो, अपने काम में शरीक होने का न्‍यौता देंगे; और अपने में और अपने कार्य में उन्‍हें श्रद्धा होगी, तो उनके उदाहरण का दूसरों पर अवश्‍य ही अनुकूल प्रभाव पड़ेगा। इसका अर्थ यह है कि‍ म्‍युनिसिपल संस्‍था के सदस्‍य को अपना सारा समय उसी काम लें लगाने वाला होना चाहिए। उसका अपना कोई स्‍वार्थ नहीं होना चाहिए। उनका दूसरा कदम यह होगा कि म्‍युनिसिपैलिटी या लोकल बोर्ड की सीमा के अंदर रहने वाली सारी वयस्‍क आबादी की गणना कर ली जाए और उन सबसे म्‍युनिसिपैलिटी की प्रवृत्तियों में योग देने के लिए कहा जाए। इसका एक व्‍यवस्थित रजिस्‍टर रखा जाना चाहिए। जो लोग ज्‍यादा गरीब हैं और पैसे की मदद नहीं दे सकते उनसे अगर वे सशक्‍त हों तो, श्रमदान करने के लिए कहा जा सकता है।

अगर मैले का ठीक-ठीक उपयोग किया जाए, तो हमें लाखों रुपयों की कीमत का खाद मिले और साथ ही कितनी ही बीमारियों से मुक्ति मिल जाए। अपनी गंदी आदतों से हम अपनी पवित्र नदियों के किनारे बिगाड़ते हैं और मक्खियों की पैदाइश के लिए बढ़िया जमीन तैयार करते हैं। परिणाम यह होता है कि हमारी दंडनीय लापरवाही के कारण जो मक्खियाँ खुले मैले पर बैठती है, वे ही हमारे नहाने के बाद हमारे शरीर पर बैठती है और उसे गंदा बनाती है। इस भंयकर गंदगी से बचने के लिए कोई बड़ा साधन नहीं चाहिए; मात्र मामूली फावड़े का उपयोग करने की जरूरत है। जहाँ-तहाँ शौच के लिए बैठ जाना, नाक साफ करना या सड़क पर थूकना ईश्‍वर और मानव-जाजि के खिलाफ अपराध है और दूसरों के प्रति लिहाज की दयनीय कमी प्रकट करता है। जो आदमी अपनी गंदगी को ढकता नहीं है वह भारी सजा का पात्र है,फिर चाहे वह जंगल में ही क्‍यों न हो।


>>पीछे>> >>आगे>>