hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

रात की गाथा
अरुण कमल


जैसे उतरने में एक पाँव पड़ा हो ऐसे
मानो वहाँ होगी एक सीढ़ी और\
पर जो न थी
ऐसे ही हाथ पीठ पर पड़ते लगा उसे

और ऐसे ही सुबह हुई
हाथ पीठ पर रक्खे-रक्खे।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अरुण कमल की रचनाएँ