hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सात समंदर सामने
राजकुमार कुंभज


सात समंदर सामने
पीने के पानी को तरसता हूँ
पानी भरे बादल-सा गरजता हूँ
चट्‍टानों पर बरसता हूँ
और फिर जा मिलता हूँ
समंदर से।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में राजकुमार कुंभज की रचनाएँ