hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मैं एक अकेले द्वीप का कवि
राजकुमार कुंभज


ईश्वर को आती नहीं है नींद
वह तो एक खूँख्वार कातिल की तरह भ्रमणकारी
जागता ही रहता है दिन-रात
जैसे चौबीस-सात का होता है बैंकिंग
एक पंक्ति का नहीं होता है समूह-नाच
और मैं नहीं समूह-नाच एक पंक्ति का
मैं एक एक अकेले द्वीप का कवि

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में राजकुमार कुंभज की रचनाएँ