hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

आयु के प्रूफ
प्रेमशंकर शुक्ल


उधड़ गया हूँ कितनी-कितनी जगह
किरनें मेरी तुरपाई कर रही हैं
देखिए न आप -
बाँच रहा हूँ धरती
और भरा जा रहा है आसमान

पूरब का लाल रंग
अभी गीला है बहुत
दवात में भरा हुआ
इसी लाल से सुबह-सुबह
मैं अपनी आयु के प्रूफ देखता हूँ।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ