hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सूर्य फल
प्रेमशंकर शुक्ल


सुबह-सुबह
परिंदे सूरज की लाली लिए
दौड़ रहे हैं
इस आसमान से उस आसमान

उठते से ही
तोंतों ने चख लिया है
सूर्य-फल

ध्यान से देखिए न!
हो गई हैं तोतों की चोंचें
कितनी लाल!

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ