hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

देश दुनिया
शैलजा पाठक


हम उतना ही सुनते हैं
जितने हमारे अपनों की आवाजें हैं
हम वही देखते हैं

जो हम चाहते हैं हमारे लिए अच्छा है

हम अपनी ही थाली पर चील सा झपटते हैं
हम अपने आस पास उठाते रहते हैं दीवारें
हम सुरक्षित होने की हद तक
असुरक्षित रहते हैं

हम रोते हैं तो दबा लेते हैं अपना मुँह
हम मुस्कराहट को चिपका कर रखते हैं
जाते हुए बाहर

हम बच्चों की किताबो के बीच
गुलाब नही ...सूखे दरख्तों की जली राख रखते हैं
हम जिंदगी का कमाल का हिसाब रखते हैं

हम आँगन में रोप आए है कँटीले पौधों की बाड़ें
जानवर की शकल बदली हुई है
मिजाज जमाने का बदल गया है

हम देश की सीमा पर खड़े हो कर
गाते हैं चैन से सोने के गीत

हम धरती पर आखिरी बार
आदमी के रूप में पहचाने जाएँगे
हम असली रंग के नहीं रहे अब
हमारी फसलें बर्बाद हो चुकी हैं

मुरदों की कब्र पर सरकार की व्यवस्था चल रही है
ये देश को बचाने के लिए
उसे एक बार और झोंक देंगे आग में
इनके पास आग से बचने के कपड़े हैं

हमारी आँख से धरती आखिरी बार देखी जाएगी
जानवरों की स्लेट पर धरती का चित्र है
वो सब मुँह में इतिहास चबा रहे हैं
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शैलजा पाठक की रचनाएँ