hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

दरिया
अरविंद कुमार खेड़े


यदि डूब गया तो
दरिया कहेगा
मेरी कहानी
यदि बच गया तो
मैं लिखूँगा
दरिया के खिलाफ।


End Text   End Text    End Text