hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

दिन
उदय प्रकाश


एक सुस्त बैल
हाँफ रहा है।

उसके पुट्ठों पर
चमक रहा है पसीना
थके हुए नथुनों से
गिर रहा है

सफेद झाग
सफेद झाग
धीरे-धीरे
सारे मैदान में
जमा हो गया है।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में उदय प्रकाश की रचनाएँ



अनुवाद