hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

पांडेजी
उदय प्रकाश


उस दिन पांडेजी
बुलबुल हो गए थे।

कलफ लगाकर कुर्ता टाँगा
कोसे का असली, शुद्ध कीड़ों वाला चाँपे का,
धोती नई सफेद, झक बगुला जैसी।

और ठुनकती चल पड़ी
छोटी-सी काया उनकी।
छोटी-सी काया पांडेजी की
छोटी-छोटी इच्छाएँ,
छोटे-छोटे क्रोध
और छोटा-सा दिमाग।

गोष्ठी में दिया भाषण, कहा -
'नागार्जुन हिंदी का जनकवि है'
फिर हँसे कि 'मैंने देखो
कितनी गोपनीय
चीज को खोल दिया यों।
यह तीखी मेधा और
वैज्ञानिक आलोचना का कमाल है।'

एक स-गोत्र शिष्य ने कहा -
'भाषण लाजवाब था, अत्यंत धीर-गंभीर
तथ्यपरक और विश्लेषणात्मक

हिंदी की आलोचना के ख्च्चर
अस्तबल में
आप ही हैं एकमात्र
काबुली बछेड़े।'

तो गोल हुए पांडेजी
मंदिर के ढोल जैसे।

ठुनुक-ठुनुक हँसे और
फिर बुलबुल हो गए
फूल कर मगन !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में उदय प्रकाश की रचनाएँ



अनुवाद