hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

करीमन और अशर्फी
उदय प्रकाश


शाहनवाज खाँ
तुम अपनी अंटी से तूतनखामेन की
अशर्फी निकालना।

उधर हाट के सबसे आखिरी छोर पर
नीम के नीचे
टाट पर
कई साल से अपनी झुर्रियों समेत बैठी
करीमन किरानची होगी।

तुम उससे अशर्फी के बदले
लहसुन माँगना।

यह शर्त रही
कि वह नहीं देगी।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में उदय प्रकाश की रचनाएँ



अनुवाद