hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

समर्पण
सर्वेश्वरदयाल सक्सेना


घास की एक पत्ती के सम्मुख
मैं झुक गया
और मैंने पाया कि
मैं आकाश छू रहा हूँ

End Text   End Text    End Text