hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

रसायनशास्त्री
वीरेन डंगवाल


सुनते समय उनकी मुद्रा
लगभग रसायनशास्त्रियों वाली थी
अपनी लंबी उँगलियों और अँगूठे में
लगभग कसे हुए अपना चिकना परुष जबड़ा
क्लैसिकल रसायनशास्त्रियों की तरह।
फिर कुछ शब्द उन्होंने कहे
आँखों में पहले लगभग हास्य
और फिर तत्काल गंभीर दिलचस्पी झलकाते हुए
जो दरअसल दैन्य थी ।
कहकर वे चुप हो गए ।
(लिखने का श्रम तो कब का छूट चुका था)
थोड़ी शर्मिंदगी थी तो
उनके चुप होने में शायद ।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में वीरेन डंगवाल की रचनाएँ