hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कोठी-बियाबानी
वीरेन डंगवाल


निद्रालस भरा-भरा
बियाबान अब न रहा ।
रास्ता आम है अब
और काफी मशगूल ।
डैनों के बल फाटक के खंभों पर लटकीं
काई पुती सीमेंट की फरिश्तिनें
ताकती हैं ट्राफिक को ।
इतने जाते हैं, इतने आते
मगर कोई आता नहीं ।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में वीरेन डंगवाल की रचनाएँ