hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सूखा
वीरेन डंगवाल


सूखा पिता के हृदय में था
भाई की आँखों में
बहन के निरासे क्षोभ में था सूखा
माता थी
कुएँ की फूटी जगत पर डगमगाता इकहरा पीपल
चमकाता मकड़ी के महीन तार को
एक खास कोण पर
आँसू की तरह ।

सूर्य के प्रचंड साम्राज्य तले
इस भरे-पूरे उजाड़ में
केवल कीचड़ में बच रही थी नमी
नामुमकिन था उसमें से भी निथार पाना
चुल्लू भर पानी ।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में वीरेन डंगवाल की रचनाएँ