hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

काव्य-शास्त्री
वीरेन डंगवाल


चुमे फटे ओंठ सन गए रस से
चैन आन पड़ा
संग नशा भी आया
ऊपर से छटा अनुप्रास की !
वाह-वाह
बार-बार होवे
इस विरोधाभस की पुनरुक्ति
होती रहे

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में वीरेन डंगवाल की रचनाएँ