hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

वृक्ष के पत्र
वीरेन डंगवाल


चिट्ठियाँ लिक्‍खीं
हवा में डाल दीं
बे-पता थीं
उनका जो होता, हुआ

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में वीरेन डंगवाल की रचनाएँ