डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

आदमी धुएँ के हैं
राजेंद्र प्रसाद सिंह


ताँबे का आसमान,
टिन के सितारे,
गैसीला अंधकार,
उड़ते हैं कसकुट के पंछी बेचारे,
लोहे की धरती पर
चाँदी की धारा
पीतल का सूरज है,
राँगे का भोला-सा चाँद बड़ा प्यारा,
सोने के सपनों की नौका है,
गंधक का झोंका है,
आदमी धुएँ के हैं,
छाया ने रोका है,
हीरे की चाहत ने
कभी-कभी टोका है,
शीशे ने समझा
कि रेडियम का मौका है,
धूल 'अनकल्चर्ड' है,
इसीलिए बकती है -
- 'जिंदगी नहीं है यह -
- धोखा है, धोखा है!'

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में राजेंद्र प्रसाद सिंह की रचनाएँ