डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सच बोलना
राजेंद्र प्रसाद सिंह


ओ चंदन-वन के
मलयानिल !
सच बोलना, -
सोए थे
नाग सभी,
सहसा तुम
चले तभी ?
वर्ना क्या
शाखों के साथ अभी
तुम्हें भी पड़ता
किरणों में विष घोलना ?
- सच-सच बोलना !

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में राजेंद्र प्रसाद सिंह की रचनाएँ