डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

तसवीर का मौन
राजेंद्र प्रसाद सिंह


उस मौन को
मेरे विनीत प्रणाम हैं !
- जो बार-बार
अपार सागर-सा प्रकट हो
घेर लेता
चेतना की नाव को -
अपने निगूढ़, अमेय ताल में
खींचकर,
टिकने न देता
एक पल,
कर बुदबुदों से विकल,
देता छोड़ छिन्न बहाव को !
वह मौन -
मेरी दृष्टि में चिर प्यास है !
- तसवीर में अनबोल छाँह-प्रकाश,
इन अंकित पड़े नीरंग होठों पर
- तलफते चुंबनों में घुट रहा मधुमास,
- तेरे चित्र का उच्छ्वास,
- वह मौन मेरे मौन का इतिहास है !
मैं स्वर न देना चाहता हूँ उसे,
डर है, - बाख रहे रस-बिंदु जो
वे भी न छिन जाएँ
लपट के लोक में !
उस मौन को
मेरे विनीत प्रणाम हैं !
यह रच रहा हूँ
शब्द, लय, झंकार जो;
तो इसलिए केवल
कि ये व्यवधान हैं;
हटा दूँ कायदे से इन्हें,
विनिमय हो परस्पर मौन का

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में राजेंद्र प्रसाद सिंह की रचनाएँ