hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

यथार्थ
महेन्द्र भटनागर


राह का
नहीं है अंत
        चलते रहेंगे हम!
दूर तक फैला
        अँधेरा
नहीं होगा जरा भी कम!
टिमटिमाते दीप-से
अहर्निश
         जलते रहेंगे हम!
साँसें मिली हैं
मात्र गिनती की
अचानक एक दिन
धड़कन हृदय की जायगी थम!
समझते-बूझते सब
मृत्यु को छलते रहेंगे हम!
हर चरण पर
मंजिलें होती कहाँ हैं?
जिंदगी में
कंकड़ों के ढेर हैं
           मोती कहाँ हैं?


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महेन्द्र भटनागर की रचनाएँ