hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

वरदान
महेन्द्र भटनागर


याद आता है
तुम्हारा प्यार!

तुमने ही दिया था
एक दिन
मुझको
          रुपहले रूप का संसार!

सज गए थे
द्वार-द्वार सुदर्श
         बंदनवार!

याद आता है
तुम्हारा प्यार!
प्राणप्रद उपहार!


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महेन्द्र भटनागर की रचनाएँ