hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बहाना
महेन्द्र भटनागर


याद आता है
तुम्हारा रूठना!

मनुहार-सुख
            अनुभूत करने के लिए,
एकरसता-भार से
ऊबे क्षणों में
रंग जीवन का
नवीन अपूर्व
            भरने के लिए!
याद आता है
तुम्हारा रूठना!

जन्म-जन्मांतर पुरानी
प्रीति को
फिर-फिर निखरने के लिए,
इस बहाने
मन-मिलन शुभ दीप
आँगन-द्वार
           धरने के लिए!
याद आता है
तुम्हारा रूठना!
         अपार-अपार भाता है
         तुम्हारा रागमय
         बीते दिनों का रूठना!


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महेन्द्र भटनागर की रचनाएँ