hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बदलो!
महेन्द्र भटनागर


सड़ती लाशों की
दुर्गंध लिए
छूने
गाँवों-नगरों के
ओर-छोर
             जो हवा चली -
             उसका रुख बदलो!
जहरीली गैसों से
अलकोहल से
लदी-लदी
गाँवों-नगरों के
नभ-मंडल पर
            जो हवा चली
            उससे सँभलो!
            उसका रुख बदलो!


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महेन्द्र भटनागर की रचनाएँ