hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

खरखइंचा
शैलेंद्र कुमार शुक्ल


सागर की लहरों की तरह
ऊपर-नीचे, नीचे-ऊपर
उड़ने वाले पंछी
तुम्हें खरखइंचा मामा कहते थे ना
मेरे गाँव के भोले-भाले बच्चे

पूछते थे कि नदी कितनी गहरी है
तुम तरंगित होकर उड़ते थे ना
'इत्ती ऽऽ ... इत्ती ss '
'स्वेत-श्याम' रंग वाले पंछी
तुम कितने चंचल होते थे
फुदक-फुदक कर चलते थे ना

कविता करने वाले ये कवि
तुम्हारी आकार वृत्ति पर
रीझते-रीझते रीझ गए
उन्हें क्या पता था कि
'खंजन नयन' को कविता में देखकर
कल के लोग
इसे काव्य-रूढ़ि कहेंगे


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शैलेंद्र कुमार शुक्ल की रचनाएँ