hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

एक औरत का पहला राजकीय प्रवास
अनामिका


वह होटल के कमरे में दाखिल हुई !
अपने अकेलेपन से उसने
बड़ी गर्मजोशी से हाथ मिलाया !

कमरे में अँधेरा था
घुप्प अँधेरा था कुएँ का
उसके भीतर भी !

सारी दीवारें टटोली अँधेरे में
लेकिन 'स्विच' कहीं नहीं था !
पूरा खुला था दरवाजा
बरामदे की रोशनी से ही काम चल रहा था !
सामने से गुजरा जो 'बेयरा' तो
आर्तभाव से उसे देखा
उसने उलझन समझी और
बाहर खड़े-ही-खड़े
दरवाजा बंद कर दिया।

जैसे ही दरवाजा बंद हुआ
बल्बों में रोशनी के खिल गए सहस्रदल कमल
"भला बंद होने से रोशनी का क्या है रिश्ता?"
उसने सोचा।

डनलप पर लेटी
चटाई चुभी घर की,
अंदर कहीं - रीढ़ के भीतर
तो क्या एक राजकुमारी ही होती है हर औरत
सात गलीचों के भीतर भी
उसको चुभ जाता है
कोई मटरदाना आदिम स्मृतियों का ?

पढ़ने को बहुत-कुछ धरा था
पर उसने बाँची टेलीफोन तालिका
और जानना चाहा
अंतरराष्ट्रीय दूरभाष का ठीक-ठीक खर्चा।
फिर, अपनी सब डॉलरें खर्च करके
उसने किए तीन अलग-अलग कॉल।

सबसे पहले अपने बच्चे से कहा -
"हैलो-हैलो, बेटे
पैकिंग के वक्त... सूटकेस में ही तुम ऊँघ गए थे कैसे...
सबसे ज्यादा याद आ रही है तुम्हारी
तुम हो मेरे सबसे प्यारे!"

अंतिम दो पंक्तियाँ अलग-अलग उसने कहीं
आफिस में खिन्न बैठे अंट-शंट सोचते अपने प्रिय से
फिर, चौके में चिंतित, बर्तन खटकाती अपनी माँ से।

...अब उसकी हुई गिरफ्तारी
पेशी हुई खुदा के सामने
कि इसी एक जुबाँ से उसने
तीन-तीन लोगों से कैसे यह कहा
"सबसे ज्यादा तुम हो प्यारे!"
यह तो सरासर है धोखा -
सबसे ज्यादा माने सबसे ज्यादा !

लेकिन, खुदा ने कलम रख दी
और कहा -
"औरत है, उसने यह गलत नहीं कहा!"


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अनामिका की रचनाएँ