hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

स्त्रियाँ
अनामिका


पढ़ा गया हमको

जैसे पढ़ा जाता है कागज

बच्चों की फटी कॉपियों का

'चनाजोरगरम' के लिफाफे के बनने से पहले !

देखा गया हमको

जैसे कि कुफ्त हो उनींदे

देखी जाती है कलाई घड़ी

अलस्सुबह अलार्म बजने के बाद !

सुना गया हमको

यों ही उड़ते मन से

जैसे सुने जाते हैं फिल्मी गाने

सस्ते कैसेटों पर

ठसाठस्स ठुँसी हुई बस में !

भोगा गया हमको

बहुत दूर के रिश्तेदारों के दुख की तरह

एक दिन हमने कहा -

हम भी इनसान हैं

हमें कायदे से पढ़ो एक-एक अक्षर

जैसे पढ़ा होगा बी.ए. के बाद

नौकरी का पहला विज्ञापन।

देखो तो ऐसे

जैसे कि ठिठुरते हुए देखी जाती है

बहुत दूर जलती हुई आग।

सुनो, हमें अनहद की तरह

और समझो जैसे समझी जाती है

नई-नई सीखी हुई भाषा।

इतना सुनना था कि अधर में लटकती हुई

एक अदृश्य टहनी से

टिड्डियाँ उड़ीं और रंगीन अफवाहें

चींखती हुई चीं-चीं

'दुश्चरित्र महिलाएँ, दुश्चरित्र महिलाएँ -

किन्हीं सरपरस्तों के दम पर फूली फैलीं

अगरधत्त जंगल लताएँ !

खाती-पीती, सुख से ऊबी

और बेकार बेचैन, अवारा महिलाओं का ही

शगल हैं ये कहानियाँ और कविताएँ।

फिर, ये उन्होंने थोड़े ही लिखीं हैं।'

(कनखियाँ इशारे, फिर कनखी)

बाकी कहानी बस कनखी है।

हे परमपिताओं,

परमपुरुषों -

बख्शो, बख्शो, अब हमें बख्शो!


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अनामिका की रचनाएँ