hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

विमर्श

राहुल सांकृत्यायन और डॉ. अंबेडकर
कँवल भारती


( संदर्भ - आर्य सिद्धांत)

1.

दलित नवजागरण के समय में जो दलितों को रटाया गया था, वह था यह इतिहासबोध कि हमलावर आर्यों ने भारत में आकर यहाँ के मूल निवासियों पर धावा बोला और उन्हें हराकर अपने अधीन कर दास बना लिया, वही दास आज के शूद्र और अछूत हैं। दलितों में, उस समय सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले राहुल सांकृत्यायन की किताबों 'ऋग्वेदिक आर्य' और खासकर 'वोल्गा से गंगा' की कहानियों ने इस धारणा को और भी मजबूत किया। महाराष्ट्र में दलित आंदोलन के प्रर्वतक महात्मा ज्योतिराव फुले 19वीं शताब्दी में ही इस धारणा को अपनी पुस्तक 'गुलामगीरी' में स्थापित कर चुके थे। इसलिए समूचे दलित आंदोलन ने इसी धारणा को अपना ऐतिहासिक आधार बनाया। इस धारणा को डॉ. अंबेडकर की पुस्तक 'शूद्र कौन' भी खंडित नहीं कर सकी, जो दलित नवजागरण के दौरान ही चंद्रिका प्रसाद जिज्ञासु के प्रकाशन संस्थान (बहुजन कल्याण प्रकाशन) से 1946 में ही छपकर आ चुकी थी। उसका दूसरा संस्करण 1968 में प्रकाशित हुआ था, जिसकी प्रति इन पंक्तियों के लेखक के पास सुरक्षित है।1 चंद्रिका प्रसाद जिज्ञासु की 1937 में प्रकाशित पुस्तक 'भारत के आदि निवासियों की सभ्यता' के भी 1969 तक छह संस्करण प्रकाशित हो चुके थे और बोधानंद महास्थविर का ग्रंथ 'मूल भारतवासी और आर्य' (1930) अनुपलब्ध होने के बावजूद चर्चा में था। इन ग्रंथों ने दलित वर्गों के मानस पर यह छाप छोड़ने में अमिट प्रभाव डाला था कि भारत के करोड़ों शूद्र और अछूत भारत के उन मूल निवासियों की संतान हैं, जो कि प्रागैतिहासिक काल में इस देश में स्वच्छंदता से निवास करते थे और इस भूमि के स्वामी थे।

इस विषय पर राहुल सांकृत्यायन का क्या मत था, इसे हम उनकी 1956 में प्रकाशित पुस्तक 'ऋग्वेदिक आर्य' में देखने की कोशिश करते हैं। उनके अनुसार, यह मानना ही होगा कि आर्य बाहर से आए। क्यों? उनका उत्तर है - ''आर्य भारत में बाहर से आए, यदि यह न माना जाए, तो आर्यों की भाषा पश्चिम की जिन भाषा वालों से अपना एक पारिवारिक संबंध बतलाती है, उन्हें भी भारत से गया मानना होगा। इसके कारण और अनेक समस्याएँ उठ खड़ी होगीं, जिनका समाधान अति कठिन है।''2 स्पष्ट है कि उनके अनुसार यह भाषा की समस्या है, जिसके कारण आर्य भारतीय नहीं हैं। आर्य भारत में कब आए? वे लिखते हैं - ''आर्यों के प्रवेश के समय पर ध्यान देने से आर्यों का भारत में प्रवेश ई.पू. 1500 से पहले नहीं मालूम होता।''3 आर्य कहाँ से भारत में आए? उत्तर है - ''भारतीय आर्य हिंदी-यूरोपीय वंश की पूर्वी या शतम-शाखा के अंतर्गत आते हैं, जिसमें ही रूसी आदि स्लाब और ईरानी भी सम्मिलित हैं। ईरानी आर्य अपने मूल स्थान 'आर्याना बेइजा' का स्मरण रखते थे, पर भारतीय आर्य उसे भूल गए थे, यह ऋग्वेद के मौन-धारण से मालूम होता है। इसमें यह भी कारण हो सकता है कि उनका प्रसार बीच के स्थानों को छोड़कर नहीं हुआ, इसलिए उन्हें मूल स्थान से निर्वासित होने का ख्याल नहीं हो सकता था। आखिर ऋग्वेदिक आर्यों के सबसे पश्चिम में रहने वाले पख्त, भलान आदि जन भारत के पश्चिमी द्वार खैबर और बोलन के काफी पीछे तक बसे हुए थे। उनके भी पश्चिम आर्य जन रहे होंगे, पर प्रकरण में न आ सकने के कारण ऋग्वेद ऋषि उनका नाम - स्मरण नहीं कर सके।''4 लगता है, राहुल जी ने अटकल लगाई है और सब बातों को छोड़कर केवल भाषा को आधार बनाया है।

आर्यों का संघर्ष भारत के मूल निवासियों से हुआ। यह भी राहुल ने स्पष्ट किया है - ''आर्यों का सप्त सिंधु में छा जाना शांतिपूर्वक नहीं हुआ। अपने से अधिक सभ्य तथा नागरिक होने से अपेक्षाकृत मृदुल-प्रकृति वाले प्रतिद्वंद्वियों से उनका खूनी संघर्ष 1500 ई.पू. के आस-पास हुआ था।''5 वे आगे लिखते हैं - ''मोहन-जोदड़ो, हड़प्पा तथा ऐसे ही कितने और नगरों के संहार के बाद सप्त सिंधु की विजित भूमि को पशुपाल आर्य जनों ने आपस में बाँट कर उसे गोचर भूमि में परिणत कर दिया। बहुत से नगर वीरान हो गए। गाँवों के भी बहुत से लोग पूर्व और दक्षिण की ओर भाग गए। जो रह गए, उन्हें विजेताओं ने दास या कमकर बना लिया।'' 6

आर्यों का संघर्ष भारत की किन जातियों से हुआ? राहुल जी लिखते हैं - ''ऋग्वेदिक आर्यों के काल (ई.पू. 1200-1000) में भारत में चार जातियाँ मुख्यतः बसती थीं, जिनमें कोल या कोलारी (निषाद, आस्ट्रिक) सप्त सिंधु से बहुत दूर रहते थे, इसलिए उनसे उस समय आर्यों का कोई संबंध नहीं था। आर्यों के घनिष्ठ संपर्क और संघर्ष में आने वाले (1) मोहनजोदड़ो और हड़प्पा की सभ्य जाति 'द्रविड़' और (2) कश्मीर से आसाम और आगे के पहाड़ों तथा तराई में बसने वाली जाति 'किरया किरात' (मोन-ख्मेर) मुख्य थीं। आते ही आर्यों को नागरिक द्रविड़ों से पहले भुगतना पड़ा। फिर सप्त सिंधु में छा जाने के बाद जब वह हिमालय की तराई और उसके भीतर घुसने लगे, तो उनका संघर्ष किरों से हुआ। द्रविड़ और किरात दोनों में ऋग्वेद ने कोई भेद नहीं किया और दोनों ही को कृष्णचर्म, कृष्णयोनि या कृष्णवर्ण (काले रंग वाला) कहा है।'' 7

इस युद्ध में जो स्त्री-पुरुष पराजित हुए, राहुल के मतानुसार, उनमें से - ''बहुतों को विजेता दास-दासी बनाकर काम लेते थे।''8 वे आगे लिखते हैं - ''शूद्र से दास वर्ण का मतलब है, जो कि पहले आर्यों के प्रतिद्वंद्वी और पीछे उनके शासित या दास बन गए।''9 उनके अनुसार - ''उस वक्त जो भी युद्धबंदी हाथ आए होंगे, वह दास-दासी बन गए होंगे, इसमें संदेह नहीं।''10 इन दास-दासी शूद्रों के साथ किस तरह का व्यवहार आर्यों ने किया, इसका उल्लेख करते हुए वे लिखते हैं - ''आर्थिक तौर से पराजितों का भीषण शोषण तो होता ही था, सामाजिक तौर से भी उन्हें बहुत हीन समझा जाता था। गुत्समद ने मान लिया था कि देवताओं ने ही उन्हें अधम (नीच) वर्ण का बना दिया है।''11

जैसा कि कहा जा चुका है, पराजित लोग कृष्ण (काले) वर्ण (रंग) के थे और स्पष्ट है कि आर्य श्वेत (गोर) थे। अतः शूद्र काले रंग के थे, जिसके कारण उनके साथ भेदभाव किया गया। राहुल के अनुसार - ''आर्यों को रक्त-सम्मिश्रण का डर कितना था, इसका अंदाज हमें अमेरिका के नीग्रों और श्वेतांगों से लग सकता है। आर्यों ने वर्ण भेद की खाई को सुदृढ़ रखने की कोशिश की। यद्यपि वर्ण-रंग का इस तरह का भेदभाव हमारी जातियों में आज बिल्कुल नहीं मिलता। ब्राह्मण भी कोयले से काले मिलते हैं, और शूद्र या अछूत अच्छे खासे गोरे।''12

आगे राहुल जी ने एक बड़े मजे का तर्क इस मामले में दिया है कि यवन, शक और हूण अछूत क्यों नहीं बने, जबकि वे भी बाहर से हमलावर के रूप में आए थे? राहुल लिखते हैं - ''उनके प्रति आरंभ में कुछ भेदभाव जरूर रक्खा गया, लेकिन रंग का सवाल नहीं उठ सकता था, क्योंकि नवागंतुक वर्ण-संपत्ति में आदिम आर्यों जैसे थे, जिनके रूप, रंग, नख-शिख को हमारे यहाँ बराबर सौंदर्य की कसौटी माना जाता रहा। इसीलिए यवन-शक उच्च वर्ण के लोगों में मिल गए और उन्हें अछूत या संपत्तिहीन नहीं बनना पड़ा।'' 13

सामाजिक भेदभाव और अस्पृश्यता की स्थिति पर राहुल जी की टिप्पणी बेहद रोचक है। वे लिखते हैं - ''तीव्र वर्ण-भेद के ख्याल से आर्य अपने दास-दासियों के साथ घनिष्ठ संबंध स्थापित करने के विरोधी थे। पर, दास-दासियों के श्रम का वह कैसे त्याज्य कर सकते थे? दक्षिणी अफ्रीका के गोरे भी कालों के श्रम से लाभ उठाने से बाज नहीं आते। सिंधु-उपत्यकावासी भौतिक संस्कृति में आर्यों से बहुत आगे बढ़े हुए थे। मोहनजोदड़ो जैसे ताम्र युग के भव्य नगर के निर्माण करने वाले उनके शिल्पी, अपने कला-कौशल तथा शिल्प से आर्यों के लिए लाभदायक थे। इस लाभ से वह अपने को वंचित नहीं करना चाहते थे। कपड़ा बुनना, चिकित्सा करना, हथियार बनाना आदि कुछ शिल्प आर्यों को भारत में आने से पहले ही मालूम थे। उन्होंने सिंधु-उपत्यकावासियों के अधिक विकसित शिल्प भी कुछ सीखे। उससे भी अधिक उन्हीं द्वारा काम करवाकर लाभ उठाया, पर खान-पान की जो छूतछात पीछे पैदा हुई, उसका अस्तित्व उस काल में था, यह कहना मुश्किल है। जहाँ तक उत्तर भारत का संबंध है, 'शूद्राः संस्कर्तारः' (शूद्र पाचक हैं) बराबर माना जाता रहा। रोटी-पानी में शूद्रों से नहीं, बल्कि अतिशूद्रों से भेद बरता जाता रहा, जिसका कारण वर्ण नहीं, बल्कि अधिक गंदे समझे जाने वाले काम थे।'' 14

जो सिंधु-उपत्यकावासी (मूल निवासी) शिल्प और कला-कौशल में आर्यों से बढ़-चढ़कर थे, वे असभ्य और अकुशल आर्यों से पराजित होकर दास कैसे हो गए, इस प्रश्न पर राहुल जी ने कोई विचार नहीं किया। देखते हैं कि इस विषय पर डॉ. अंबेडकर के विचार क्या हैं?

2.

अंबेडकर का मत है - "कि ब्राह्मण शास्त्रकारों से यह पता नहीं चलता कि शूद्र कौन थे और चौथा वर्ण कैसे बना? उनके अनुसार यह भ्रम पाश्चात्य विद्वानों ने फैलाया है कि आर्य बाहर से आए और उन्होंने यहाँ के मूल लोगों को पराजित कर शूद्र बनाया। वे इस मत का जबरदस्त खंडन करते हैं। उनका कहना है कि आर्य एक भाषा है। आर्य शब्द का संबंध न रक्त से है, न शारीरिक ढाँचे से, न बालों से और न कपाल से है। जो आर्य भाषा बोलते हैं, वे ही आर्य हैं।"15

वे ऋग्वेद के हवाले से लिखते हैं - "कि 'अर्य' शब्द का प्रयोग ऋग्वेद में 88 बार हुआ है। इसका प्रयोग चार विभिन्न अर्थों में किया गया है, जो ये हैं - (1) शत्रु, (2) संभ्रांत नागरिक, (3) भारत देश का नाम, और (4) स्वामी, वैश्य अथवा नागरिक।16 इसी तरह 'आर्य' शब्द 31 बार आया है, जिसका अर्थ कहीं भी जाति नहीं है।"17 वे परिशिष्ट में इन दोनों शब्दों की संपूर्ण सूची भी प्रस्तुत करते हैं।18

क्या आर्य बाहर से आए? वे भारत में कहाँ से आए? अर्थात उनका मूल स्थान कहाँ था? इस संबंध में विद्वानों ने बहुत तरह के विचार व्यक्त किए हैं। अंबेडकर कहते हैं - "कि वे सभी विचार भ्रामक हैं। तिलक के अनुसार आर्य आर्कटिक क्षेत्र के रहने वाले थे। पर, अंबेडकर ने यह कहकर इस मत को खारिज कर दिया कि आर्कटिक क्षेत्र में घोड़ा विद्यमान नहीं था, जो आर्यों का प्रिय प्राणी था।"19

अंबेडकर लिखते हैं - "कि वैदिक साहित्य से पता नहीं चलता कि आर्य बाहर से आए। उन्होंने ऋग्वेद के मंत्र 75 का उल्लेख किया है, जिसमें सात नदियों का प्रसंग महत्वपूर्ण है। वहाँ नदियों का संबोधन 'मेरी गंगा', 'मेरी जमुना' और 'मेरी सरस्वती' कहकर किया गया है। अंबेडकर सवाल करते हैं कि कोई भी विदेशी ऐसा संबोधन क्यों करेगा? उनके अनुसार, ऐसा संबोधन वही कर सकता है, जिसका इनसे निकट का भावात्मक संबंध हो।"20

अंबेडकर आगे कहते हैं कि - "वेदों में दासों, दस्युओं और आर्यों के बीच किसी बड़े युद्ध का वर्णन नहीं मिलता, केवल छोटी-छोटी झड़पों का उल्लेख मिलता है। यह जय-पराजय का प्रमाण नहीं हो सकता। उनके अनुसार, ऋग्वेद के मंत्रों (6-33-3, 7-83-1, 5-51-9 तथा 10-102-3) में स्पष्ट कहा गया है कि आर्यों के साथ दास और दस्युओं ने मिलकर संयुक्त रूप से शत्रु से युद्ध किया। वे कहते हैं कि संघर्ष की स्थिति के बावजूद दासों, दस्युओं और आर्यों में शांति बनाए रखने के लिए सम्मानजनक समझौते भी हुए हैं। वे आगे लिखते हैं कि ऋग्वेद के अनुसार, यदि संघर्ष था भी, तो वह जाति के आधार पर नहीं, धर्म के आधार पर था। ऋग्वेद के मंत्र (10-22-8) में कहा गया है कि हम दस्यु जातियों के बीच रहते हैं। ये लोग न तो यज्ञ करते हैं और न किसी की पूजा। उनके संस्कार-अनुष्ठान भी भिन्न हैं। अतः वे मनुष्य कहलाने योग्य नहीं हैं। हे शत्रु-हंता! इन दस्युओं का नाश करो।"21 अतः अंबेडकर कहते हैं - कि ऋग्वेद के आधार पर इस मत का खंडन हो जाता है कि आर्य बाहर से आए और उन्होंने यहाँ के मूल निवासियों को जीता।"22

आगे अंबेडकर ने इस प्रश्न पर विचार किया है कि क्या दास या दस्यु नाम की कोई जाति थी? जो लोग आर्यों का दासों और दस्युओं से संघर्ष मानते हैं, उनका मत है - कि ऋग्वेद में 'मृध्रावक' और 'अनास' दस्युओं के गुण बताए गए हैं और 'दास' को कृष्ण-वर्ण कहा गया है। अंबेडकर कहते हैं कि ऋग्वेद में 'मृध्रावक' शब्द चार मंत्रों (1-14-2, 5-32-8, 7-6-3, तथा 7-18-3) में आया है, जिसका अर्थ है, वह व्यक्ति जो गँवार है और अपरिष्कृत भाषा बोलता है। वे पूछते हैं कि क्या भाषा का गँवारूपन या अपरिष्कृत होना जाति-भिन्नता का साक्ष्य माना जा सकता है? वे आगे कहते हैं कि 'अनास' शब्द ऋग्वेद के मंत्र (5-29-10) में आया है। सायण ने इसका अर्थ बिना मुँह वाला अर्थात कटुभाषी किया है, जबकि मैक्समूलर ने इसे बिना नासिका वाला बताया है। इनमें सही अर्थ कौन सा है? अंबेडकर कहते हैं कि दरअसल ये दो अर्थ दो तरह से पढ़ने के कारण हैं। सायण ने इस शब्द को 'अन-असा' पढ़ा है, जबकि मैक्समूलर ने 'अन्नासा'। वे कहते हैं कि सायण का अर्थ सही है, क्योंकि दस्युओं को कहीं भी बिना मुँह या बिना नाक वाला नहीं बताया गया है। उनके अनुसार यह 'मृध्रावक' का ही पर्याय है। इससे यह तो साबित होता है कि दस्यु कटुभाषी थे, पर उनका एक भिन्न जाति होना साबित नहीं होता।"23

क्या दास कृष्ण वर्ण के थे? अंबेडकर लिखते हैं - कि ऋग्वेद (मंत्र 6-47-21) में दासों को कृष्ण योनि का बतलाया गया है। पर, यह स्पष्ट नहीं होता कि यह शब्द लाक्षणिक रूप में प्रयोग हुआ है या शाब्दिक अर्थ में? यह भी पता नहीं चलता कि यह यथार्थ है या घृणा का प्रतीक। जब तक इन प्रश्नों का उत्तर न मिल जाए, तब तक, वे कहते हैं, यह मत स्वीकार करना संभव नहीं कि दासों को काले रंग की जाति का माना जाए।"24 इन प्रश्नों के समाधान के लिए वे ऋग्वेद के तीन मंत्रों का उल्लेख करते हैं, जो इस प्रकार हैं -

1. ऋग्वेद (6-22-10) - ''हे वज्रि, तूने दासों को आर्य बनाया है, अपनी शक्ति से बुरे को अच्छा बनाया है। हमें भी वही शक्ति दो, जिनसे हम शत्रुओं पर विजय पा सकें।''

2. ऋग्वेद (10-49-3) - ''इंद्र कहता है, मैंने दस्युओं को आर्य संबोधन से वंचित कर दिया है।''

3. ऋग्वेद (1-15-108) - ''हे इंद्र, यह मालूम करो कि आर्य कौन हैं और दस्यु कौन हैं? इन दोनों को पृथक करो।''

अंबेडकर कहते हैं - "कि इन मंत्रों से यह स्थापित होता है कि आर्यों और दासों तथा दस्युओं के बीच न जातीय भिन्नता थी और न शारीरिक। दास और दस्यु आर्य कहे जाते थे, इसीलिए इंद्र से कहा गया कि उन्हें आर्यों से पृथक किया जाए।"25

अंबेडकर लिखते हैं - ''आर्य जाति का सिद्धांत अनुमान के सिवा कुछ नहीं है। यह डॉ. बोप के दार्शनिक विचारों पर आधारित है, जो उन्होंने 1835 ई. में प्रकाशित अपनी युगांतकारी पुस्तक कंपेरेटिव ग्रामर' में प्रकट किए हैं। इस पुस्तक में डॉ. बोप ने लिखा है - "कि यूरोप की अधिकांश और एशिया की कुछ भाषाओं के पूर्वज एक ही थे। जिन भाषाओं की ओर डॉ. बोप ने संकेत किया है, वे भारत-जर्मन भाषाएँ कहलाती हैं। इन्हें समुच्चय रूप से आर्य भाषा कहा गया है, क्योंकि वैदिक भाषा आर्यों का उल्लेख करती है और वह भारत-जर्मन भाषा परिवार से संबद्ध है। यही मुख्य सिद्धांत आर्य जाति पर लागू है।''26

वे आगे कहते हैं - "कि इससे लोगों ने दो अनुमान लगाए - (1) जातियों की एकता और (2) यह प्रजाति आर्य जाति है। इन लोगों ने यह तर्क दिया कि यदि भाषाओं का उद्गम समान आनुवंशिक बोलियाँ हैं, तो ऐसी जाति रही होगी, जिसकी वह मातृभाषा रही हो और वह आर्य जाति की आर्य भाषा रही होगी। वे कहते हैं कि इसी एक अनुमान से समान मूल स्थान का अनुमान भी गढ़ा गया।"27 लेकिन, सबसे नया अनुमान और अनुसंधान आर्यों के आक्रमण का सिद्धांत है, जिसको खोजने की जरूरत, डॉ. अंबेडकर के अनुसार, पश्चिमी विद्वानों को इस कथन को सिद्ध करने के लिए पड़ी कि 'इंडो-जर्मन' ही मूल आर्यों के मूल प्रतिनिधि हैं। इनका मूल स्थान यूरोप बताया गया है। अंबेडकर कहते हैं कि केवल यह बताने के लिए कि आर्य भाषा भारत कैसे पहुँची, भारत में आर्यों के आगमन और आक्रमण के सिद्धांत को गढ़ा गया।"28

अंबेडकर के अनुसार पश्चिमी विद्वानों ने तीसरी कल्पना यह की कि आर्य एक श्रेष्ठ जाति है। इस मत का आधार यह विश्वास है - "कि आर्य यूरोपीय जाति के थे और इस नाते वे एशियाई जातियों से श्रेष्ठ हैं। श्रेष्ठता की इस परिकल्पना को यथार्थ सिद्ध करने के लिए ही इस कहानी को गढ़ने की आवश्यकता पड़ी, क्योंकि उन्हें पता था कि आक्रमण की बात कहने के सिवा आर्य जाति को श्रेष्ठ बताने का और तरीका नहीं है।"29

अंबेडकर आगे कहते हैं - "कि योरोपीय विद्वानों ने यह तर्क भी गढ़ा कि योरोपीय जातियाँ गौर वर्ण होती हैं। चूँकि आर्य योरोपीय थे, इसलिए वे गोरे भी थे। वे एशियाई जातियों से इसलिए घृणा करते हैं, क्योंकि वे काले रंग की होती हैं। चूँकि ये योरोपीय विद्वान रंगभेदी थे, इसलिए उनके अनुसार वर्ण व्यवस्था रंगभेद का पर्याय थी।" 30 अंबेडकर ने इन सारी परिकल्पनाओं को निराधार और हास्यास्पद अटकलों पर आधारित बताया है। वे कहते हैं - "कि यदि वर्ण व्यवस्था रंगभेद का पर्याय होती, तो जातीय भेदभाव का आधार रंग होता, न कि जाति और चारों वर्णों के चार ही रंग होने चाहिए थे।"31

अंबेडकर के मतानुसार आर्य जाति की उत्पत्ति का सिद्धांत एक पुरानी भ्रांति है, जिसका अंत बहुत पहले हो जाना चाहिए था, पर ब्राह्मणों ने इसका समर्थन करके इसे जन साधारण में प्रचलित कर दिया। वे कहते हैं - "कि ब्राह्मणों ने दो कारणों से इसका समर्थन किया। पहला इसलिए कि ब्राह्मण दो राष्ट्र के सिद्धांत में विश्वास रखता है। वह स्वयं को आर्यों का प्रतिनिधि मानता है और शेष हिंदुओं को अनार्य जातियों की संतान कहने से उसके श्रेष्ठ होने के अहम की पूर्ति होती है। वह आर्यों के बाहर से आने तथा अनार्य जातियों को विजित करने के सिद्धांत का समर्थन अब्राह्मणों पर अपना प्रभुत्व बनाए रखने के मकसद से करता है। दूसरा कारण यह है कि योरोपीय विद्वानों के वर्ण का अर्थ रंग को ब्राह्मणों ने आर्य सिद्धांत को जीवित रखने के लिए माना, क्योंकि वर्णभेद ही आर्य सिद्धांत का मूलाधार है।"32

क्या आर्य वास्तव में गौर वर्ण के थे और वर्णभेद के समर्थक थे? अंबेडकर ने ऋग्वेद के हवाले से इसका खंडन किया है। वे लिखते हैं - कि ऋग्वेद के मंत्र (1-117-8) में प्रसंग है कि आश्विन ने श्यामा और रूसति से विवाह किया। श्यामा काली थी और रूसति गोरी। एक अन्य मंत्र (1-117-5) में आश्विन की स्तुति कुंदनवर्णा वंदना के उद्धार के लिए की गई है। किंतु ऋग्वेद के ही अन्य मंत्र (9-3-9) में एक आर्य ने पिशांक रक्ताभ ताम्रवर्ण वाले गुणी पुत्र के लिए देवताओं की आराधना की है। ऋग्वेद के अनेक मंत्रों के सृष्टा ऋषि दीर्घत्तमा थे, जो श्याम वर्ण के थे। मंत्र 10-31-11 के अनुसार आर्य ऋषि कण्व भी श्याम वर्ण के थे। अंबेडकर लिखते हैं - "कि इन उदाहरणों से यह सिद्ध होता है कि आर्य न तो गोरे वर्ण के थे और न वर्णभेद के समर्थक थे।"33

अंबेडकर ऋग्वेद और अन्य शास्त्रों के अध्ययन के हवाले से स्पष्ट करते हैं - "कि आर्यों की दो जनजातियाँ थीं, न कि एक। योरोपीय विद्वान जिस एक आर्य प्रजाति की बात करते हैं, ऋग्वेद में उसका प्रमाण नहीं मिलता। ऋग्वेद में दो भिन्न आर्य जातियों का वर्णन है।"34 वे आगे कहते हैं - "कि दास, दस्यु और आर्य तीनों आर्य जाति के हैं और तीनों भारतीय हैं।"35

अंबेडकर की यह स्थापना है कि शूद्र आर्य थे और वे क्षत्रिय थे। वे क्षत्रियों में इतने उत्तम और महत्वपूर्ण वर्ण के थे कि प्रचीन आर्यों के समुदाय में अनेक शूद्र तेजस्वी और बलशाली राजा थे। उन्होंने मैक्समूलर के सिद्धांत का खंडन करते हुए विस्तार से लिखा है - "कि ऋग्वेद में पुरुष सूक्त एक क्षेपक है, जो चार वर्ण की बात करता है। उनके अनुसार वर्ण तीन थे और शूद्र दूसरे वर्ण क्षत्रिय से संबंधित थे।"36 चौथा वर्ण कब बना और शूद्र उसमें कब ढकेले गए? इस पर अंबेडकर का मत है - "कि क्षत्रिय और ब्राह्मणों के संघर्ष के कारण चौथा वर्ण शूद्र बना। ब्राह्मणों ने उनका उपनयन बंद कर उन्हें शूद्र बनाया। ब्राह्मणों की यह प्रतिक्रिया शूद्र राजाओं के द्वारा उनके साथ किए गए अत्याचार, उत्पीड़न और अपमान के कारण थी, जिसका आशय था प्रतिशोध की भावना।"37

प्रश्न उठता है कि शूद्रों ने इस अधोपतन को कैसे सहन किया? इसका उत्तर अंबेडकर यह देते हैं कि - "उनकी संख्या कम थी और वे ब्राह्मणों द्वारा अपने विरुद्ध गठित संयुक्त मोर्चे का विरोध करने में असमर्थ थे।"38

अपने निष्कर्ष में अंबेडकर ने एक बात बड़ी महत्वपूर्ण यह कही है कि आर्य शूद्र और आज के हिंदू शूद्र एक नहीं हैं। धर्म सूत्रकारों ने सच्छूद्र (सभ्य शूद्र) और असच्छूद्र (असभ्य शूद्र) के रूप में शूद्र में अंतर किया है। उनके अनुसार सभ्य शूद्र निर्वासित शूद्र थे, जो गाँव के भीतर रहते थे और असभ्य शूद्र अनिर्वासित शूद्र थे, जो गाँव से बाहर रहते थे। आर्य शूद्र एक जाति (वंश या कुल) का नाम था, जबकि हिंदू समाज में 'शूद्र' शब्द तथाकथित नीच अथवा असभ्य मानव वर्ग के लिए प्रयुक्त गुणवाचक संज्ञा है।"39

3.

इस प्रकार हम देखते हैं कि आर्य जाति के सिद्धांत को लेकर राहुल सांकृत्यायन और डॉ. अंबेडकर के विचार परस्पर विरोधी हैं। यहाँ राहुल योरोपीय विद्वानों का समर्थन करते हुए आर्यों को योरोपीय वंश का मानते हैं, वहीं अंबेडकर आर्यों को भारतीय जनजाति का मानते हुए योरोपीय सिद्धांत को सिरे से खारिज कर देते हैं। राहुल आर्य शूद्र और हिंदू शूद्र को रेखांकित नहीं कर पाते हैं। वे दोनों को एक ही मानते हैं। पर, अंबेडकर की दृष्टि में आर्य शूद्र और हिंदू शूद्र अलग-अलग हैं। राहुल ने दास-दस्युओं को अनार्य और आर्यों का दास माना है, जबकि अंबेडकर का अध्ययन इसके विरुद्ध है। उनके अनुसार दास-दस्यु दो जातियाँ हैं और वे आर्य हैं। राहुल इस सिद्धांत को मानते हैं कि आर्यों ने मूल निवासियों को पराजित कर दास बनाया, जबकि अंबेडकर इसे एक हास्यास्पद अटकल बाजी मानते हैं। राहुल का मत है कि आर्य गोरे थे, पर अंबेडकर कहते हैं कि आर्य श्यामवर्ण के भी थे, जो ऋग्वेद से ही प्रमाणित होता है। अंबेडकर का यह भी विचार है कि ब्राह्मणों ने योरोपीय विद्वानों के सिद्धांत को अपने को सर्वश्रेष्ठ साबित करने के उद्देश्य से अपनाया है, ताकि वे अब्राह्मणों और शूद्र-अतिशूद्रों को हेय दृष्टि से देखते रहें।

संदर्भ

1. शूद्रों की खोज, डॉ. अंबेडकर, हिंदी अनुवाद : एक दलित भारतीय आत्मा, प्रकाशक, बहुजन कल्याण प्रकाशन

2. ऋग्वेदिक आर्य, किताब महल, इलाहाबाद, द्वितीय संस्करण 2004, पृष्ठ-1

3. वही

4. वही, पृष्ठ-1 व 2

5. वही, पृष्ठ-6

6. वही, पृष्ठ-9

7. वही, पृष्ठ-14

8. वही, पृष्ठ-16

9. वही, पृष्ठ-18

10. वही, पृष्ठ-19

11. वही

12. वही

13. वही

14. वही, पृष्ठ-20

15. डॉ. अंबेडकर संपूर्ण वाङमय, खंड - 13, डॉ. अंबेडकर प्रतिष्ठान, कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली, संस्करण जून 1998, पृष्ठ-46

16. वही, पृष्ठ-46

17. वही, पृष्ठ-47

18. वही, पृष्ठ-171

19. वही, पृष्ठ-51

20. वही, पृष्ठ-52

21. वही, पृष्ठ-52-53

22. वही, पृष्ठ-53

23. वही, पृष्ठ-53-54

24. वही, पृष्ठ-54

25. वही

26. वही, पृष्ठ-55

27. वही

28 . वही

29. वही

30. वही, पृष्ठ-55-56

31. वही, पृष्ठ-56

32. वही, पृष्ठ-56-57

33. वही, पृष्ठ-57-58

34. वही, पृष्ठ-76

35. वही, देखिए अध्याय 6, शूद्र और दास

36. वही, पृष्ठ-112

37. वही, देखिए अध्याय 10 और 11

38. वही, पृष्ठ-164

39. वही, पृष्ठ-163


End Text   End Text    End Text