hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

यात्रावृत्त

भूटान - द लैंड ऑफ थंडर ड्रैगन
संतोष श्रीवास्तव


हिमालय पर्वत श्रृंखला में बसा छोटा सा देश भूटान बिल्कुल रोडोडेंड्रॉन फूल जैसा खूबसूरत। रोडोडेंड्रॉन पहले भूटान का राष्ट्रीय पुष्प हुआ करता था। लाल मखमली पंखुड़ियों वाला... इस फूल की दुनिया भर में एक हजार किस्में होती हैं जिसमें से दो सौ किस्में केवल भूटान में हैं। इसका भूटानी नाम एटोमेटो है... सफेद, गुलाबी, लाल, बैंगनी... हर रंग की छटा वाला फूल। अब ब्लू पॉपी (अफीम का नीला फूल) राष्ट्रीय पुष्प है।

कोलकाता से ड्रुक एयरवेज के खिलौने जैसे हवाईजहाज से मैं विश्व मैत्री मंच की १६ लेखिकाओं के साथ पारो एयरपोर्ट उतरी हूँ। कन्फ्यूज्ड हूँ... क्या मैं पारो में हूँ जहाँ पारा इन दिनों यानी फरवरी के अंतिम सप्ताह में माइनस ०.१ है [सूचना इंटरनेट से] मानकर चली थी कि २२ फरवरी २०१५ जब मेरी फ्लाइट साढ़े दस बजे सुबह पारो हवाई अड्डे लैंड करेगी तो वह एक बर्फानी सुबह होगी। जमा देने वाली उस सुबह की कल्पना से ही मैं पिछले तीन महीनों से ठंड को अपने में पैबिस्त कर रही थी, सहने लायक हिम्मत जुटा रही थी लेकिन पासपोर्ट, इमीग्रेशन, परमिट आदि की औपचारिकता के बाद जब मैं एयरपोर्ट के बाहर आई जहाँ टूर मैनेजर रजत मेरे नाम की तख्ती लिए हमारा इंतजार कर रहा था तो मौसम खुशनुमा लगा। रजत ने बंगाली लहजे में कहा - "काल से ही मौसम बदला है मैडम।"

हमारी २० सीटर बस सुनहली धूप में खड़ी थी। आसमान साफ था, दूर पहाड़ों पर बर्फ चमक रही थी। हवा गुनगुनी सेंक लिए भली-भली सी थी।

हम थिंफू के लिए रवाना हुए जो पारो से अपेक्षाकृत गर्म रहता है और पारो से थिंफू की दूरी ७६ कि.मी. हैजिसे हम रजत के अनुसार १.४० मिनट में तय कर लेंगे। थिंफू भूटान की राजधानी है। पहाड़ों की घाटी में बसा बेहद खूबसूरत शहर। पारो शहर की खूबसूरती इस वक्त मानो थिंफू के बारे में सोचने नहीं दे रही थी। कैसा अद्भुत शहर है... पारो नदी को अपनी बाँहों में समेटे... नदी को समर्पित सा। शायद इसीलिए इसका नाम पारो है। नदी भी आँखमिचौली खेल रही थी। कभी चीड़ के दरख्तों के बीच झिलमिलाती तो कभी भूरे, लाल, सिलेटी, काले पर्वतों की घाटी में छलछल बहती नजर आती। पर्वतों पर हरियाली नाम को न थी। परतदार चट्टानों के पर्वत अजीबोगरीब आकृतियों से भ्रमित किए थे। इतनी तरह के पर्वतों को अपने दामन में समेटे गहरी-गहरी घाटियाँ खामोश थीं। न जाने क्यों ये जंगली सौंदर्य मुझे खुश भी कर रहा था, उदास भी। सड़क के दाहिनी ओर कतारबद्ध दरख्त सूखे सूखे से थे। शाखों पर न पत्ते थे न फूल न फल... मानो पतझड़ अभी-अभी उनकी नंगाझोली लेकर गया हो। प्रकृति के ऐसे अद्भुत स्वरूप को मैं पहली बार देख रही थी। जहाँ बहार भी थी और खिजाँ भी। ठंड भी थी और नहीं भी थी। तरावट भी थी और सूखापन भी... वाह...

थिंफू शहर में प्रवेश करते ही लगा जैसे हम प्रदूषण मुक्त जोन में प्रवेश कर रहे हैं। पीले, लाल, बॉटल ग्रीन, आसमानी रंगों वाली टिन की ढलवाँ छतों वाले लकड़ी के खूबसूरत मकान जो तिब्बती, चीनी और भूटानी स्थापत्य का मिला जुला नमूना थे। बाहरी दीवारों पर ज्यादातर ड्रैगन या फूलों की आकृतियाँ थीं। बिना भीड़ भाड़ शोर शराबे वाले बाजार... गाड़ियाँ हॉर्न तक नहीं बजातीं। बस हवा में उनकी रफ्तार सुन लो। ध्वनि प्रदूषण से मुक्त। भूटानी स्त्री पुरुष अपने खास परिधान में नजर आ रहे थे। पैंट शर्ट में तो एकाध ही होगा।

होटल टक्संग आ गया था जहाँ हेड टूर मैनेजर सुमंतो बासु घबराया हुआ मुझे ढूँढ रहा था। "आप ही शोंतोष हैं। आपका बिहार का मेहमान उदर फुसोलिंग में भूटान बॉर्डर पर अटका पड़ा है।"

पता चला पटना, जयनगर से ट्रेन से आने वाले सात लेखक लेखिकाएँ जिन्हें डॉ. मिथिलेश मिश्र अपने साथ ला रही थीं बॉर्डर पर रोक लिया गया है और परमिट देने से इनकार कर दिया गया है क्योंकि उन्होंने इमीग्रेशन फॉर्म में भूटान आने का मकसद इंटरनेशनल सेमिनार लिख दिया है और इसके लिए आयोजक को भूटानी दूतावास से परमीशन लेनी जरूरी थी। अब क्या होगा? उन सब को तो ग्यारह बजे पहुँच जाना था। सोचा था थिंफू पहुँचते ही पहले रूम एलॉट करूँगी। फिर सबके साथ लंच करके आराम करूँगी। कमरे तो एलॉट कर दिए थे पर मैं लगातार बासु के साथ रिसेप्शन में फोन, फैक्स, दूतावास से संपर्क आदि की कोशिशों में मुब्तिला थी। मेरे मोबाइल का बैलेंस भी मिथिलेश दी से संपर्क के कारण निल हो चुका था।

करीब तीन बजे सूचना मिली कि हम अपनी कोशिश में कामयाब हो गए हैं। उन्हें परमिट मिल गया है और वे थिंफू के लिए रवाना हो गए हैं। बासु ने चाय मँगवाई - "चाय पीकर आराम कर लीजिए मैडम... कितनी थकी लग रही हैं आप।" बासु मुझे मेरे कमरे तक छोड़ने आया जहाँ मधु मेरा इंतजार कर रही थी। कमरा ठंडा था। हीटर तो चल रहा था लेकिन कमरा गर्म नहीं हो रहा था। रात कोलकाता एयरपोर्ट पर जागकर गुजारी थी। लेकिन तनाव की वजह से नींद जाने कहाँ गायब थी। मधु ने चाय मँगवाई। शाम ढल रही थी सोचा थोड़ा आसपास घूम आएँ। बाकी भी अपने-अपने तरीके से नजदीक के बाजार या सड़कों पर टहल रही थीं। हम दोनों इधर-उधर टहलते रहे सीढ़ियाँ उतरकर कुछ दुकानें थीं सजावटी सामान, सोविनियर, ऊनी कपड़े आदि की। सड़कों पर धुँधली सी बत्तियाँ टिमटिमा रही थीं और दूर पहाड़ पर बौद्ध मठ जैसा कुछ दिख रहा था। सूना-सूना सा पर्वतीय शहर, तेज हवा की साँय-साँय... जीवन का सन्नाटा गहराता सा लगा।

मिथिलेश दी रात नौ बजे आईं। फिर तो डिनर पर परमिट न दिए जाने के किस्से ही किस्से थे। मिथिलेश दी के साथ पुष्पा जमुआर, संजू शरण, आलोक भारती आदि से मैं पूर्व परिचित थी। दीनानाथ साहनी से मैं पहली बार मिल रही थी। बेहद हँसमुख, सरल व्यक्तित्व, दैनिक जागरण में समाचार संपादक... बिहार का पूरा ग्रुप सिर्फ सेमीनार के लिए ही आया था। कल ब्रेकफास्ट के बाद हमें होटल नाम्सेलिंग जाना है जहाँ सेमीनार होगा।

२३ फरवरी। होटल हम बस से आए। होटल महलनुमा था। शानदार रिसेप्शन। पूरा स्थापत्य सफेद और सुनहले रंग समूहवाला बारीक कार्विंग से मनमोहक लग रहा था। लेकिन सम्मेलन चौथी मंजिल पर होगा और लिफ्ट नहीं थी। ज्यादातर सीनियर सिटीजन महिलाएँ... लेकिन हौसला बुलंद। चार मंजिल चढ़कर भी चेहरे पर शिकन तक नहीं। सम्मेलन साढ़े दस बजे आरंभ हुआ। विश्व मैत्री मंच के बैनर तले इस अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत से आई २५ लेखिकाओं, लेखकों ने भाग लेकर यह सिद्ध कर दिया कि साहित्य सरहदों का मोहताज नहीं। कुछ भूटानी लेखिकाएँ भी थीं। जंबा याशी, करमा वांगमों, लुंगटेंन, वांगमों, सोनम के साथ भारतीय लेखिकाओं ने लघुकथा के विविध आयामों पर जमकर चर्चा की। दूसरे सत्र में कवि सम्मेलन, प्रमाणपत्र और स्मृतिचिह्न वितरण था। कार्यक्रम बिना लंच ब्रेक के छह बजे तक चला और सभी ने भरपूर आनंद लिया।

डिनर के बाद रजत और बासु ने बाउल गायकों की पारंपरिक वेशभूषा पहन बाउल गीत सुनाकर 'आमार सोनार बांग्लादेश' में पहुँचा दिया।

सुबह ब्रेकफास्ट के बाद हम थिंफू सिटी टूर पे थे। लेकिन बिना बिहार से आई लेखिकाओं के क्योंकि वे सब केवा सम्मेलन के लिए ही आई थीं। उन्हें ग्यारह बजे पारो लौटना था। उनसे विदा ले हमारा काफिला रवाना हुआ। यहाँ का समय भारतीय समय से आधा घंटे आगे है। भूटानी मुद्रा नोंग्त्रुम (या न्गल्त्रम) भारतीय मुद्रा के बराबर है। मैंने थोड़े से रुपये ही भूटानी रुपयों में तब्दील करवाए थे क्योंकि यहाँ भारतीय सौ रुपयों के नोट बहुत प्रचलित हैं। घूमते हुए जानकारी मिली कि भूटान में सबसे ज्यादा जनसंख्या बौद्ध धर्मावलंबियों की है। हर जगह बौद्ध मठ, बुद्ध की प्रतिमाएँ, घूमते चक्र, अनवरत जलते दीप। हैरत की बात ये है कि भूटान में पशु हत्या निषेध है फिर भी पूरी जनसंख्या मांसाहारी है। यहाँ मांस भारत से आयात किया जाता है। न पशुहत्या, न प्रदूषण... शांत, मुस्कराते चेहरे, जीवन की आपाधापी से दूर। शायद इसीलिए भूटान दुनिया का सबसे संतुष्ट और खुशहाल देश कहलाता है। सारी अर्थव्यवस्था कृषि, वन, पनबिजली और पर्यटन पर आधारित है। शायद यही वजह है कि पर्यटकों को सैर कराने वाले ड्राइवर भी बहुत खुशमिजाज और तमाम जानकारियाँ देने वाले होते हैं। हमारा ड्राइवर वांग्चू भी खुशमिजाज था। वह भूटानी पोशाक किरा पहने था। घुटनों तक मोजे और भारी बूट। किरा बहुत कुछ कफ्तान जैसी होती है। वांग्चू ने अपने गाँव का नाम टांग्सा बताया।

सड़क पर लोगों की आवाजाही कम थी। बी बी एस टॉवर, सार्क बिल्डिंग आदि बस में बैठे हुए भी कितना कुछ नजरों के सामने से गुजर रहा है। नेशनल मेमोरियल चोटेन के सामने पार्किंग स्थल पर बस रुकी। बासु ने पंद्रह मिनट घूमने का समय दिया। पाँच मिनट तो सभी ने संतरे खरीदने में गँवा दिए। संतरे और सेब की भरपूर पैदावार के लिए प्रसिद्ध है भूटान। गेट पर लगे बोर्ड पर लिखा था... १९७४ में रानी फुँतशू चोडेन वाँग्चुक ने अपने बेटे थर्ड ड्रुक गिआलपो की स्मृति में यह स्मारक बनवा कर राजा जिग्मे दोरजी वाँग्चुक को समर्पित किया था। अंदर लाइन से धम्मचक्र... सफेद भव्य स्मारक, बीचोंबीच सफेद ईंटों के चबूतरे पर नीली हौद में खिले कमल पर रानी की मूर्ति... मूर्ति के ऊपर खूबसूरत कलाकृति की छत... जिस पर ढेर सारे कबूतर बैठे थे। कबूतर बार-बार उड़ते, मँडराते, बैठते... पूरे आसमान को अपने पंखों से भरे दे रहे थे। चोर्टन का मंदिरनुमा कलश था जिसके चारों तरफ चार खंभों को ऊपर सफेद सिंह की मूर्तियाँ थीं जिनमें जंजीरें बँधी थीं। ये जंजीरें कलश से बाँध दी गई थीं। किंवदंती है कि प्राचीन काल में यह मंदिर धरती पर ठहरता नहीं था, आकाश में उड़ जाता था इसलिए इसे शक्ति के प्रतीक सिंह से बाँधा गया है।

वहाँ से दूर पहाड़ों का दृश्य बड़ा सुहावना था। चोर्टन से बाहर निकलते हुए बहुत अधिक बूढ़े बौद्ध लामा सीढ़ियों पर बैठे थे। पूछने पर एक लामा ने अपनी उम्र डेढ़ सौ साल बताई। क्या सच!!! मैं पलक झपकाना भूल गई। बासु का दावा था कि उसने तिब्बत में दो सौ साल का लामा देखा है।

संतरे खाते हुए और भी कितनी बातें कितने आश्चर्य! बुद्धा पॉइंट आ गया था। बस ने जहाँ छोड़ा थोड़ी दूर तक रेतीली जगह पर चलना पड़ा। फिर पक्का विशाल प्रांगण... बेहद विशाल १६९ फीट ऊँची सुनहली बौंज्ज से बनी बौद्ध प्रतिमा पद्मासन की मुद्रा में दिखाई दी। मूर्ति तक पहुँचने के लिए पीले सुनहले रंग वाली सीढ़ियाँ थीं। एक ओर पहाड़ दूसरी ओर घाटी... तेज चमकती धूप में पूरा स्थापत्य रोमांचित कर रहा था। भीतरी भाग तीन मंजिलों में बँटा था जहाँ बुद्ध की मूर्तियाँ थीं। तीनों मंजिलों को अपने में समेटे ध्यान की मुद्रा में डूबे गौतम बुद्ध शून्य में कुछ तलाशते से लग रहे थे। धरती से ऊपर, संसार से विरक्त।

"बुद्ध तुम प्रश्नों के उत्तर खोजो। हम संसार के हर पल के साक्षी, हर पल के आह्लाद को अपने में समो लेने के लिए आतुर (अगर ऐसा नहीं करेंगे तो उस ईश्वर का अपमान नहीं होगा जिसने धरती रची) हमारी खिलखिलाहट से वादियाँ गूँज उठीं।

चँगगँगखाँ मॉनेस्ट्री पहाड़ पर चढ़कर है। कुल ११२ सीढ़ियाँ थीं। मॉनेस्ट्री में कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा था। लाइन से धम्मचक्र... घुमाते जाओ, आगे बढ़ते जाओ। सामने गहरी घाटी का नजारा खूबसूरत था। चीड़ के पेड़ बहुतायत से थे। अन्य पहाड़ी पेड़ तादाद में कम थे। पेड़ों पर रंग बिरंगी चिड़ियाँ चहक रही थीं। भूटानी इस मॉनेस्ट्री को बहुत मानते हैं। बच्चे के जन्म लेते ही माता पिता इया मंदिर में बच्चे को लेकर आते हैं। लामा मंत्र पढ़कर बच्चे को जिंदगी जीने योग्य बनाता है। अगर किसी कारणवश बच्चे को मॉनेस्ट्री नहीं लाया गया तो माँ को एक बड़ा पत्थर पेट पर रखकर मंदिर की परिक्रमा करनी पड़ती है।

नीचे सड़क के उस पार खाने पीने के सामान की कुछ दुकानें थीं। थोड़ा बहुत नमकीन आदि खरीदकर वहाँ से हम वांग्चू नदी के किनारे ताकिनजू आए। लंबे-लंबे दरख्तों से भरा कहीं ढलवाँ, कहीं ऊँचा ताकिन जू ताकिन जानवर का संरक्षण क्षेत्र है। इस क्षेत्र को लोहे की मजबूत जाली से घेरा गया है। अंदर प्रवेश वर्जित है। ऐसा अद्भुत जानवर मैंने पहले कभी नहीं देखा जो चेहरे से बकरे और बाकी शरीर गाय की मिली जुली आकृति वाला था। इस जानवर के बारे में कहा जाता है कि १४५५ में एक लामा को वांग्चू नदी के किनारे इस जगह पर गाय और बकरी की हड्डियाँ मिलीं जिन्हें आपस में जोड़कर उसने ताकिन बना दिया। ताकिन भूटान का राष्ट्रीय पशु है।

पारो और म्यूजियम देखने की इच्छा थी लेकिन म्यूजियम में रखी पेंटिंग और विविध सामान जहाँ से खरीदे जा सकते हैं हम सबने वहाँ जाना ठीक समझा। देख भी लेंगे और अगर खरीदना हो तो खरीद भी लेंगे। सभी ने सिर्फ देखा क्योंकि सब कुछ बहुत महँगा था।

शाम ढल रही थी जब हम दि फोक हैरिटेज म्यूजियम पहुँचे। इसकी स्थापना सन २००१ में हुई और भूटान की रानी माँ आशी दोरजी वांग्मो वांग्चुक ने इसका उद्घाटन किया। उन्हीं ने इसकी स्थापना की थी। इस म्यूजियम में आधुनिक भूटान को भूटान के फोक कल्चर और रूरल हिस्ट्री से जोड़ने की कोशिश की है। समय-समय पर प्रदर्शनी, डिमांस्ट्रेशन, शैक्षिक कार्यक्रम और डाक्यूमेंट्स के आधार पर इस म्यूजियम को लोकप्रिय बनाने की कोशिश की गई है। तीन मंजिला इस बहुत प्राचीन सी दिखती इमारत में हमने प्रवेश टिकट लेकर प्रवेश किया। उन्नीसवीं सदी के मध्य काल को प्रस्तुत करती प्रत्येक मंजिल की ओर जाती बहुत पुरानी लकड़ी की सीढ़ियाँ हैं। हर एक मंजिल के ढाँचे से पता चलता है कि कैसे वे दीवारें, फर्श आदि उस जमाने में बनाते थे। सब कुछ मिट्टी और लकड़ी से बना... कई तरह के घरेलू औजार, बर्तन, चूल्हा आदि। कुछ वस्तुएँ तो १५० साल पुरानी हैं। बड़े बड़े धुआँ खाए बर्तन, धुआँ खाया चूल्हा... मानो हम भी उसी युग में पहुँच गए हों। अद्भुत अनुभव था।

मैंने कल बासु से भूटानी लोकनृत्य के बारे में चर्चा की थी। उसने आज शाम को ही लोकनर्तकों को बुला लिया था। लिहाजा होटल लौटकर जब मैं फ्रेश होकर रिसेप्शन में लौटी, कलाकार आ गए। वे एक घंटे के परफॉरमेंस का छह हजार माँग रहे थे। डील पक्की होते ही डाइनिंग रूम को ही स्टेज बनाकर लाइट आदि का इंतजाम कर लिया गया। सारे कलाकार यंगछेन लुगार ग्रुप के थे। पहले वेलकम नृत्य हुआ जिसमें छह जोड़ों ने पारंपरिक गीत गाते हुए नृत्य किया। जो पुरुष कलाकार थे वे वाद्ययंत्र बजा रहे थे। एक तो बिल्कुल गिटार जैसा था जिसे यहाँ ड्रामगिन कहा जाता है। प्राचीन वाद्य शुंग्डा, तिब्बती वाद्य वियेटा और आधुनिक वाद्य रिग्सर है। गिटार, ड्रमगिन, लिम (बाँसुरी) यांग्चिन, चिवाँग (वायलिन) ये वाद्य भारतीय वाद्यों से मिलते जुलते हैं। वेलकम नृत्य के बाद लड़कियों ने लामा के लिए ट्रेडिशनल नृत्य किया। उन्होंने कुल छह नृत्य प्रस्तुत किए। तीन प्राचीन और तीन आधुनिक। अंत में सभी कलाकारों ने गरबे जैसा नृत्य प्रस्तुत किया। जिसमें हम सब भी उनके साथ नाचे। वे सिर पर जालीदार लकड़ी के तिकोने मुकुट पहने थे जिसे पीछे मोतियों की लड़ी से बाँधा गया था। पैरों में हाई हील जूते जो जयपुरी मोजड़ी जैसे थे। वे हर नृत्य में अलग वेशभूषा में नजर आते थे। इन नृत्यों में भूटान की संस्कृति उभर कर सामने आई।

नृत्य मंडली को विदा कर हमने डिनर लिया। डिनर के दौरान रजत ने बताया कि कल हम पुनाखा जिला स्थित दोचूला पास जाएँगे जो ३ हजार ८० मीटर की ऊँचाई पर है और वह भूटान का सबसे ठंडा इलाका है जहाँ तापमान माइनस ०.१ रहता है इसलिए सब गर्म कपड़े पहन कर चलें। ठंड के नाम पे सब फुरेरी लेने लगीं। सुबह सात बजे निकलना है तो पाँच बजे तो उठना ही पड़ेगा। एक दूसरे को जगाने की जिम्मेदारी लेकर सब अपने अपने कमरों में चली गईं। खिड़की दरवाजा बंद होने के बावजूद हवा की साँय साँय सुनाई दे रही थी। मैंने खिड़की पर पड़ा परदा सरकाया तो सामने पहाड़ पर बने बौद्ध मठ की रोशनी में पेड़ों की डालियाँ हवा में डोलती नजर आईं। सड़क पूरी तरह सन्नाटे की गिरफ्त में थी।

सुबह चालीस मिनट देर से रवाना हुए, तो ट्रैफिक में फँस गए। पहाड़ी रास्ता होने के कारण यहाँ के ट्रैफिक नियम अलग हैं। जब जाने वाली गाड़ियों को छोड़ा जाता है तो आने वाली गाड़ियाँ दो घंटे तक रुकी रहती हैं। लिहाजा हमें दो घंटे रुकना पड़ा। हलकी हलकी बूँदाबाँदी होने लगी। घना कोहरा भी था। कोहरे में डूबे घाटी के दरख्त, पहाड़ सब कुछ तिलिस्म सा। धुँध में भी मैंने पहचान लिया रोडोडेंड्रॉन के दरख्त को। पहाड़ की ढलान पर तीन दरख्त खूबसूरत लाल पंखुड़ियों वाले फूलों की छटा बिखेर रहे थे। कड़कड़ाती ठंड में एक चाय वाला अपना थर्मस और कप लेकर बस में चढ़ा तो सबने राहत की साँस ली। गर्म चाय ने बदन में गर्मी और तरावट भर दी। चाय वाला लड़का शेराची कॉलेज का विद्यार्थी था। बहुत स्मार्ट और तपाक से हिंदी में जवाब देने वाला।

मैंने पूछा - "कुछ अपने देश के बारे में बताओ।"

"देश के बारे में आप भी तो जानकारी लेकर ही आई होंगी मैम।"

"फिर भी।"

"छोटा सा देश है मेरा। भूटान का अर्थ ही है निहायत छोटा देश। वैसे भूटान को द्रकयू और भूटानियों को द्रुपका कहते हैं। भूटानी पुरुष सिर पर छोटे-छोटे बाल रखते हैं। मेरे जैसे। हमारी पारंपरिक वेशभूषा गोकिरा कहलाती है। हमारे में लड़के लड़की में फर्क नहीं करते। दोनों को समान अधिकार कानून और समाज ने दिए हैं। लड़कियाँ हर क्षेत्र में आगे हैं। सरकार भी लड़कियों को बढ़ावा दे रही है। अगर लड़कियाँ विदेश जाकर पढ़ना चाहती हैं और माता-पिता खर्च नहीं उठा सकते तो उन्हें राजशाही स्पांसरशिप मिलती है। वे भारत के देहरादून शहर को पढ़ाई के लिए पसंद करती हैं। शिक्षित लड़कियाँ विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत हैं। ज्यादातर प्रेम विवाह होते हैं। अगर विवाह अंतरजातीय है तो दोनों परिवारों की रजामंदी जरूरी है। शादी का खर्च दोनों परिवार उठाते हैं। लड़की शादी में जो पोशाक पहनती है यानी गो वह हैसियत के हिसाब से खरीदी जाती है। लड़के की पोशाक किरा कहलाती है। गो-किरा लाल, भूरा, पीला, गुलाबी होता है। उस पर जो कशीदाकारी होती है उसे सेठा माठा कहते हैं। फूलों की जगह वर वधू कपड़े का कशीदा किया हुआ छह या सात इंच चौड़ा दुपट्टा गले में पहनते हैं और वेडिंग रिंग शादीशुदा होने की निशानी है।

ड्रग्ज लेना, चोरी करना गैरकानूनी है जिसकी सख्त सजा दी जाती है। बालमजदूरी, बाल विवाह जैसी कुप्रथाएँ नहीं हैं। तीरंदाजी यहाँ का राष्ट्रीय खेल है। वैसे क्रिकेट, बास्केटबॉल, बैडमिंटन राष्ट्रीय स्तर के खेल माने जाते हैं।

यहाँ की जनसंख्या ६,६२,४२५ है जिसमें बौद्ध धर्म को मानने वाले ७५ प्रतिशत हैं। २५ प्रतिशत हिंदू और नेपाली हैं। लेकिन इन्हें यहाँ हिंदू और नेपाली नहीं कहते बल्कि शारचोप, ल्होतशांपा और भूटानियों को गांलोप कहा जाता है।

"अरे अभी तो तुमने बताया कि द्रुपका कहते हैं भूटानियों को?"

"हाँ मैम, दोनों ही नामों से उन्हें संबोधित किया जाता है। सत्रहवीं सदी के अंत में भूटानियों ने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया था। राजशाही तो यहाँ १९०७ में स्थापित की गई। बौद्धों की बहुलता के कारण यहाँ बौद्ध त्यौहार खूब धूमधाम से मनाते हैं लेकिन नोमेद यहाँ का ऐसा वार्षिक उत्सव है जिसमें पूरा भूटान हर्षोल्लास से भर जाता है।"

भूटानी भाषा डजोगका कहलाती है। नहीं मैम, स्कूलों में हिंदी नहीं पढ़ाते। भारतीय हिंदी फिल्मों की लोकप्रियता ने ही हिंदी सिखाई है। सलमान खान और दीपिका पादुकोण हमारे प्रिय कलाकार हैं। भूटानी फिल्में भी बॉक्स ऑफिस पर हिट होती हैं। भूटानी अभिनेता सेंचोतूजी और अभिनेत्री श्रीयंकी लोकप्रिय कलाकार हैं। ज्यादातर कॉमेडी फिल्में पसंद की जाती हैं।

लड़का क्या था जानकारी का खजाना था। बहुत मान मनौव्वल केबाद उसने मेरे दिए सौ रुपए लिए। उसके जाते ही दूसरा चाय वाला आ गया। चाय का एक और दौर साथ में लाए आलू के पराँठे और चटनी के नाश्ते के साथ चला।

थोड़ी देर में दोचूला पास के लिए रास्ता खुल गया। इस बीच ड्राइवर वांग्चू जो टोग्सा का था अपनी कॉमेडी से हँसाता रहा। वह पान के पत्ते पर चूना और कच्ची नशीली सुपारी का बड़ा सा टुकड़ा डालकर खाता रहा। इस तरह का पान आलस्य और थकावट से दूर रखता है। ज्यादातर भूटानी पान खाते हैं। दोचूला पास का रास्ता घुमावदार और धुंध से भरा था। हम सब डैम साधे रास्ते पर टकटकी लगाए थे। कठिन चढ़ाई, दुर्गम और पहाड़ी दरख्तों, फूलों से भरी वैली अब धीरे-धीरे उभर रही थी। सूरज उग रहा था। कोहरा भी छँट रहा था। पुनाखा सचमुच खूबसूरत शहर है। प्राचीन काल में पुनाखा ही भूटान की राजधानी था।

गाड़ी समतल रास्ते पर रुकी। अब सब कुछ धूप में जगमगा रहा था। सामने सिम्थोका फोर्ट था। जहाँ तक जाने के लिए नदी के ऊपर पुल बना था। माँचू और फोंचू नदी का यह संगम स्थल है। नदी के किनारे सफेद रेत थी। उज्जवल जल में तलहटी के पत्थर दिखलाई दे रहे थे। किनारों पर सफेद गोल बटिया पत्थर थे।

सिम्थोका फोर्ट यूँ तो दुश्मन से रक्षा के लिए बनाया गया है। चार सौ साल पहले से भूटान को पड़ोसी देशों खासकर चीन से खतरा बना रहता है। यह फोर्ट उससे रक्षा के लिए बनाया गया है। फोर्ट को भूटानी भाषा में ज़ौंग कहते हैं। इस फोर्ट में राजाओं की शादियाँ भी हुआ करती थीं। वर्तमान राजा जिग्मे खेसर नामग्येल वांग्चुक पंचम की शादी भी इसी फोर्ट में हुई है। यहाँ राजा चुना नहीं जाता वंशानुगत होता है। फोर्ट में बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए मेडिटेशन रूम, धम्मचक्र आदि बने हैं। सीढ़ियाँ चढ़कर जब मैं ऊपर गई तो बिल्कुल श्रीलंका के बौद्ध मंदिरों जैसा ही दृश्य लगा।

फोर्ट घूमकर हम सब नदी के किनारे आ बैठे। नदी का पानी खूब ठंडा था फिर भी कुछ ने पैर डुबोए... मेरी हिम्मत नहीं पड़ी।

हमें रास्ता बंद होने के पहले थिंफू लौट जाना था नहीं तो फिर सुबह के समान दो घंटे जाम में फँसना पड़ता। एक जगह नदी का सुंदर किनारा देख हमें गाड़ी रुकवाई। तेज हवा में दुपट्टे सँभालना मुश्किल हो रहा था। सभी खिलखिला कर हवा की दिशा दुपट्टे उड़ जाने दे रही थीं... हवा में उड़ता जाए, मेरा लाल दुपट्टा... खुश होने के लिए बहुत सारे सरंजाम की क्या जरूरत? पंद्रह मिनट उन वादियों में कपूर से उड़ गए।

सूर्यास्त जिद्द पे था। घुमावदार रास्ते की शुरुआत में हमें आधा घंटा रुकना पड़ा। चाय की तलब थी पर चाय कहीं नहीं थी। सुबह के बचे हुए पराँठे खाए और बाकी बाहर खड़े भूटानी लड़के को दे दिए। वह मुस्कुराने लगा। तेजी से पराँठे ले जाने कहाँ गायब हो गया। सूर्यास्त के तुरंत बाद कोहरा दबे पाँव वैली से बाहर निकल चारों ओर फैलने लगा। धुंध में सड़क की बत्तियाँ लालटेन की लौ सी लग रही थीं। गाड़ी उस भीगी ठंडी रात में जहाँ रुकी वहाँ शहीदों के १०८ स्मारक (चोटन) बने थे। ये स्मारक उन भूटानी और भारतीय सैनिकों के थे जो १९६९-७० में चीन से युद्ध के दौरान शहीद हुए थे। बड़ी ही खूबसूरती से इन स्मारकों को सफेद और कत्थई रंगों से बनाया गया था। सीढ़ियाँ चढ़ते हुए दाएँ-बाएँ स्मारक और अंतिम सीढ़ी से थिंफू का विहँगम दृश्य... थिंफू की टिमटिमाती बत्तियाँ जैसे आसमान के सितारे घाटी में उतर आए हों। खूबसूरती और उदासी का संगम उन स्मारकों को देखना खुद को गहरी चुभन से भरना था।

लौट रहे थे तो गाड़ी में सभी की वाणी मूक हो चुकी थी।

होटल के रिसेप्शन में हम सब सोफों पर बैठ गए... चाय पीते हुए बासु ने बताया कि कल साढ़े दस बजे हम पारो चले जाएँगे। थिंफू में यह हमारी आखिरी रात है।

थिंफू सन्नाटे में डूबा था। हम सब भी थके थे सो डिनर के बाद नींद आते देर न लगी।

थिंफू की धरती को कब किरनों ने छुआ पता ही नहीं चला। जागे तो गुलाबी धूप शीशों से झाँक रही थी। चाय पीते ही तरावट से आँखों में चमक आ गई, उनींदापन गायब हो गया। सामान पैक हो चुका था। मैं भी तैयार थी। इतने दिन थिंफू में रहे। होटल की व्यवस्था भले ही आरामदायक नहीं थी पर रिसेप्शन में लड़कियाँ भोली भाली, मासूम सी... मुझे नहीं लगता कि वे १७-१८ से अधिक की उम्र की होंगी। सभी गोरे रंग की, लंबी और पारंपरिक पोशाक में रहती थीं। वैसे यहाँ मैंने सभी गोरे और लंबे भूटानी देखे। चाहे औरत हों या मर्द सभी और सभी अपनी पारंपरिक पोशाक में। सलवार सूट, जींस, टॉप पहने तो कोई दिखा ही नहीं। पुरुष अपने सिर पर छोटे-छोटे बाल रखते हैं और लड़कियाँ लंबे बाल जो खुले होते हैं या जूड़े की शक्ल में। बहरहाल लड़कियों ने हमें भावभीनी विदाई दी।

थिंफू से प्रस्थान। दूर हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं पर जमी बर्फ धूप में चमक रही थी। वैली में उतरकर पारो की ओर बहती नदी का छलछल बहता पानी मन मोह रहा था। सड़क के दोनों ओर पत्र विहीन शाखाओं वाले पेड़ थे। जिन्हें रजत ने सेब के पेड़ बताया। ठंड के कारण पेड़ उजड़ गए थे। वैली में और समतल में हरी, नीली, भूरी, पीली छत वाले खिलौनेनुमा पहाड़ी मकान थे। वहीं पेल्खिल स्कूल का बोर्ड लगा था। थोड़ा आगे जाने पर स्कूल फॉर लैंग्वेजेजएंड कल्चरल स्टडीज की इमारत थी। ताशीडेलक गेट के बाद पारो एयरपोर्ट था। हम ऊँचे स्थान पर खड़े होकर एयरपोर्ट का विहंगम दृश्य देख रहे थे। कोलकाता जाने वाला एयरड्रुक एयरवेज का जहाज बस उड़ान की तैयारी में था। आँखों को ठंडक देते गहरे हरे रंग की छत वाली एयरपोर्ट की इमारत थी। बासु ने बताया कि वर्तमान रानी के पिता पायलट हैं और उनका हवाई जहाज चलाने का तरीका अन्य पायलटों से अलहदा है। थोड़ा आगे चलने पर पारो कोर्ट था। बस, इसी सड़क से पारो शहर शुरू हो जाता है। लकड़ी के मकानों का ऊँचा-नीचा सिलसिला भी। पूरा भूटान पहाड़ पर बसा है। दक्षिणी भाग थोड़ा समतल है। भूटान के उत्तर में कुछ पर्वत चोटियाँ ७००० मीटर से भी ऊँची हैं जबकि चेलेला दर्रा १३००० मीटर की ऊँचाई पर है। भूटान का ७० प्रतिशत भूभाग जंगलों से आच्छादित है। पारो, थिंफू सहित बीस जिले हैं यहाँ। थिंफू और पारो की आबादी ५० हजार से ज्यादा नहीं है।

सूरज अभी ढला नहीं था। हम पारो म्यूजियम के गेट के सामने खड़े थे। वहाँ से काफी आगे चलकर थोड़ी सीढ़ियाँ चढ़कर हम दि नेशनल म्यूजियम ऑफ भूटान पहुँच गए। काफी ऊँचाई पर बना है म्यूजियम। गोल गुंबदनुमा इमारत सफेद और कत्थई रंग की। बड़े गुंबद के बाद एक छोटा गुंबद और फिर एक नन्हा सा गुंबद बादलों से होड़ लेता। नीचे वैली में चीड़, देवदार और ओक के दरख्त। पहले इसे पारो ज़ौग कहते थे। पूरे पारो के लिए यह एक वॉच टॉवर था। यह बात १६४९ की है। यह यहाँ के प्रथम राज्यपाल ला गोइंग्पा तेनजिन द्रुग्द्रा का आवास यानी राजभवन था। पारो के तमाम दुर्ग राजनैतिक स्थिरता आने के बाद खंडहर में तब्दील होने लगे। तब इसे भूटान के तीसरे राजा जिग्मे दोरजी वांग्चुक ने जीर्णोद्धार करके नेशनल म्यूजियम का नाम दिया और १९६८ में इसे पब्लिक के लिए खोला गया। भूटान में आधुनिकता लाने की शुरुआत भी जिग्मे दोरजी ने ही की।

गेट पर ही बने छोटे-छोटे खानों में हमारे बैग, कैमरे, मोबाइल रख लिए गए। अंदर प्रवेश करते ही गैलरी की दीवार पर भूटान के पारंपरिक मुखौटे लगे थे जो लोकनृत्य के समय नर्तक पहनते हैं। म्यूजियम की अन्य गैलरियों में भूटान की सभ्यता, संस्कृति, इतिहास के दर्शन होते हैं। इन गैलरियों के अलग-अलग नाम हैं। जैसे मास्क गैलरी, थंगका गैलरी (सोलहवीं सदी का बौद्ध काल) हैरिटेज गैलरी (हथियार, युद्ध में पहने जाने वाले वस्त्र, जूलरी, पारंपरिक पोशाकें, टी पॉट और घोड़ी का अंडा) हम चौंक पड़े। घोड़ी का अंडा भूटान के तत्कालीन राजा की दादी ने कहीं से प्राप्त कर राजा को भेंट किया था। अंडा छोटे इलाहाबादी खरबूजे जितना बड़ा था। अंडा एक असंभव परिकल्पना... तो फिर? दिमाग के घोड़े दौड़ने लगे। जरूर उसके पेट में अंडे के शेप का ट्यूमर रहा होगा। मेरी यह बात सभी को युक्तिसंगत लगी। नैचरल हिस्ट्री गैलरी में टी.वी. पर चिड़ियाँ की तसवीरें और आवाज डिस्प्ले की जा रही थी। भूटान में ८०० प्रकार के पक्षी हैं जो यहाँ की धरोहर माने जाते हैं।

पूरा म्यूजियम छह मंजिला है। भूटान की पूरी संस्कृति को इसमें समेटने की कोशिश की गई है।

बाहर निकले तो तेज, ठंडी, तीखी हवाओं ने दबोच लिया। चलना तो दूर खड़ा रहना भी मुश्किल था। घाटी तक ढलान में लगे पेड़ों की डालियाँ झुकी जा रही थीं। काफी देर बाद अपने करतब दिखा थक कर हवाएँ विदा हुईं। तेज भूख की वजह से बासु ने हमें पारो मार्केट लाकर छोड़ दिया।

"यहाँ थाई फूड बहुत अच्छा मिलता है मैम, ट्राई कीजिए।" पारो मार्केट मेन सड़क के दोनों ओर था। थाई फूड का रेस्टॉरेंट तो कहीं दिखा नहीं। हैंडी क्राफ्ट, सजावटी सामान, वूलन कपड़े और घरेलू उपयोग के सामान की दुकानें थीं। बारिश भी होने लगी थी। बारिश से बचने के लिए हम जिस दुकान में गए वो चॉकलेट, नमकीन आदि की ही थी। लिहाजा भूख मिटाने का थोड़ा सहारा तो मिला। दो घंटे बाद बस रवाना हुई। जिस होटल में हमें रुकना था वो वांग्चाग एरिया में था। रास्ता पहाड़ी घुमावदार। होटल ही पहाड़ पर था। बेहद शानदार लेकिन सीढ़ियाँ ही सीढ़ियाँ... कमरे भी सीढ़ियाँ चढ़ उतरकर बने थे। आसपास का व्यू बेहद खूबसूरत। सबको रूम एलॉट कर जब मैं अपने रूम में आई तो बाल्कनी देख तबीयत खुश हो गई। हालाँकि ठंड थिंफू से ज्यादा थी पर कमरा गर्म... सुहावना समाँ... बाल्कनी से गहरी घाटी, बर्फीले पहाड़, चीड़, देवदार, ओक... अद्भुत व्यू। डिनर आठ बजे रिसेप्शन से लगे डाइनिंग रूम में था। फिर सीढ़ियाँ चढ़ो, उतरो। लिहाजा मैंने डिनर ऊपर ही मँगवा लिया। बहुत स्वादिष्ट खाना था। चार दिन बाद अच्छा खाना नसीब हो रहा था।

बहुत गहरी और उम्दा नींद ने दिन भर की थकान मिटा दी। यहाँ तक कि रात अच्छी खासी बारिश हुई और पता ही नहीं चला।

सुबह मौसम भीगा भीगा... ठंडा-ठंडा था। लेकिन सबमें जोश इतना कि सभी गरम कपड़ों से लैस चेलेलापास जाने को तैयार। बासु डर रहा था - "मैम... रिस्क है, स्नोफॉल भी मिल सकता है। छह हजार मीटर तक तो बस जाती है उसके बाद ट्रैकिंग है। ब्रीदिंग प्रॉब्लम भी हो सकती है।"

"आप परेशान न हों, सभी अपनी रिस्क उठाने को तैयार हैं। आप कपूर खरीद लीजिए। उसको सूँघते हुए जाएँगे तो ब्रीदिंग प्रॉब्लम नहीं होगी। लद्दाख का मेरा तजुर्बा है।"

लेकिन कपूर कहीं नहीं मिला। बासु ने च्युंगम खरीद ली। सुबह नाश्ते में आलू की सब्जी और पूड़ियाँ थीं। कुछ ने खाईं, कुछ ने साथ रख लीं।

ठंड माइनस ०.१ थी। घुमावदार पहाड़ी रास्ता शुरू होते ही खूबसूरत वादियों का नजारा सामने था। घने देवदार, चीड़, ओक, सेब और अन्य दरख्तों का जंगल... दरख्तों की डालियों से आँख मिचौली खेलती पहाड़ों पर जमी बर्फ। अभी बर्फ देख ही रहे थे कि रास्ते के दोनों ओर बर्फ दिखी... फिर रास्ता भी बर्फ से पटा नजर आया। खुशी की इंतिहा न थी। सोचा भी न था कि रात स्नोफॉल होगा और चेलेला पास का हर दरख्त, सड़क बर्फ से पट जाएँगे। छह हजार मीटर की ऊँचाई पर ही हम बस से उतर गए। अब आगे ट्रैकिंग का होश किसे था जब जन्नत यहीं मिल गई थी। अद्भुत नजारा... पत्ते-पत्ते, बूटे-बूटे पर बर्फ का साम्राज्य। मैंने न्यूजीलैंड, स्विट्ज़रलैंड में भी बर्फ देखी पर इतनी खूबसूरत बर्फ नहीं। सब बर्फ के गोले बना-बना कर एक दूसरे पर उछालने लगे। बर्फीली ऊँचाईयों पर चढ़ती, गिरती, हँसती खिलखिलाती सभी महिलाओं ने जी भर कर बर्फ का मजा लिया। कैमरे हर भंगिमा को कैद कर लेने की होड़ में थे। स्नोमैन भी बनाया गया। सोचती हूँ कितना कुछ दबा रहता है हमारे दिल में जो मौका पाते ही बाहर निकल समूची कायनात को अपनी आँखों में बसा लेना चाहता है। सड़क की बर्फ पर बस के पहियों के निशान पर मैं आहिस्ता-आहिस्ता डग भरने लगी। कारवाँ भी साथ चल पड़ा। बस भी साथ साथ चलने लगी। रुककर बर्फ की चादर पर हमने आलू की सब्जी और पूड़ी का मजा लिया। शायद नजारों का असर था नाश्ता लाजवाब था। सबके चेहरे पर खुशी... आँखों में कितना कुछ भर लेने की बेताबी और यह एहसास भी कि जैसे-जैसे नीचे उतरेंगे बर्फ का ये साम्राज्य छूटता जाएगा। तेज गानों की धुन पर सब नाचने के मूड में आ गए। चेलेला का जंगल हमारी खिलखिलाहट से लबरेज था। पत्तियों ने चौंककर हम पर बर्फ गिराई।

चेलेला पास की चढ़ाई उतरकर हम टाइगरस नेस्ट आए। मैं सड़क के किनारे खड़े होकर देख रही थी। १५०० मीटर की ऊँचाई पर सामने पहाड़ पर टाइगरस नेस्ट को। यह हैंगिंग बौद्ध मॉनेस्ट्री है जिसे ताकशंग भी कहते हैं। यहाँ पहुँचना बहुत कठिन है हालाँकि कई पर्यटक ट्रेकिंग के द्वारा जाते हैं। ड्राइवर कर्मा जो नेपाली था बता रहा था कि आठवीं सदी में बौद्ध गुरु जब ईश्वर के ध्यान में मग्न थे तो आसुरी ताकतें उनका ध्यान भंग कर रही थीं। गुरु संतप्त थे, ध्यान कैसे करें? तब उनकी बीवी शेरनी बन कर उन्हें पीठ में बैठाकर सामने पहाड़ पर ले गई। बाद में वहाँ बौद्ध मॉनेस्ट्री बनी। बाईस देशों का भ्रमण कर मैंने यह तय पाया कि पूरा विश्व इस तरह की अविश्वसनीय कथाओं से भरा पड़ा है।

एक और मंदिर। मंदिर के प्रवेशद्वार पर पीपल का अद्भुत वृक्ष था जो एक चबूतरे पर था। उसकी पींड़ जैसे किसी ने लोहे के मोटे मोटे तार लंबाई में जड़ दिए हैं। चारों ओर धम्मचक्र लगे थे। घुमाते-घुमाते हाथ दुख गए। अंदर पद्मसंभव की विशाल पीतल की मूर्ति थी। पद्मसंभव कमलनाल से निकले थे। नीचे फर्श पर लाइन से तिब्बती भाषा में लिखी पोथियाँ रखी थीं। सामने आसन... जिस पर बैठकर बौद्ध धर्मावलंबी इन पोथियों का पाठ करते हैं। पद्मसंभव को सेकेंड बुद्ध भी कहते हैं। बाहर की दीवार हरी नीली जालीदार थी।

रास्ते में रिंग्पांग्जांग फोर्ट देखते हुए हम पारो मार्केट गए। बारिश... ठंडी हवाओं के बावजूद थकान नाम को नहीं। एक रेस्तराँ में चाय नाश्ता कर और भी तरोताजा हो गए। होटल लौटते हुए सोचा कि आज भूटान में हमारी आखिरी रात है सो क्यों न कैंपफायर किया जाए। लेकिन होटल के मालिक ने तीन हजार रुपए में केवल लकड़ियाँ जलाने की बात कर हमारा इरादा डगमगा दिया। बिना लकड़ियों की आग के ही कैंपफायर हुआ। नाच गाना, मिमिक्री, नाटक की एकल प्रस्तुति... गजब की कलाकार, गजब का उत्साह। उस रंगारंग कार्यक्रम की समाप्ति डिनर के साथ हुई। पैकिंग, सुबह छह बजे के आसपास एयरपोर्ट के लिए प्रस्थान... उफ... पारो का कड़कड़ाता जाड़ा बालकनी से दिखते रात्रि सौंदर्य को आँखों से पी लेने में अपनी मौजूदगी का एहसास तो दिला रहा था पर आँखें अनझिप थीं। यही तो सौंदर्य की तासीर है।

भूटान छूट रहा है। एयरपोर्ट करीब आ रहा है। बासु ने सबको नाश्ते के डिब्बे दिए। रजत किसी से मिलना नहीं चाहता... उसका मन भर आया है। वह खंभे से टिका खड़ा हमसे नजरें चुरा रहा है। छह दिन का साथ जैसे छह युगों का साथ... कोलकाता पहुँचकर सब अपने अपने ठिकानों की ओर अकेले लौट जाएँगे। यही तो मुसाफिरी है।

'तेरा मेला पीछे छूटा राही चल अकेला'


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में संतोष श्रीवास्तव की रचनाएँ