hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

तिरंगा
उर्मिला शुक्ल


हवा में लहराता तिरंगा
पूछ रहा है मुझसे
आखिर कब तक
ढोऊँगा मैं
इन रंगों भार ?
कब तक फहराऊँगा मैं
यूँ ही निरर्थक ?
कब ? आखिर कब ?
समझोगे तुम
इन रंगों का महत्व ?


End Text   End Text    End Text