hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बज रहे संतूर
पूर्णिमा वर्मन


बज रहे संतूर बूँदों के
बरसती शाम है

गूँजता है
बिजलियों में
दादरे का तीव्र सप्तक
और बादल रच रहे हैं
फिर मल्हारों के
सुखद पद
मन मुदित नभ भी धनकता ढोल
मीठी तान है

इस हवा में
ताड़ के करतल
निरंतर बज रहे हैं
आह्लादित
सागरों के लहर
संयम तज रहे हैं
उमगते अंकुर धरापट खोल
जग अनजान है 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पूर्णिमा वर्मन की रचनाएँ