hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

समय की पगडंडियों पर
त्रिलोक सिंह ठकुरेला


समय की पगडंडियों पर
चल रहा हूँ मैं निरंतर
कभी दाएँ, कभी बाएँ,
कभी ऊपर, कभी नीचे
वक्र पथ कठिनाइयों को
झेलता हूँ आँख मींचे
कभी आ जाता अचानक
सामने अनजान सा डर

साँझ का मोहक इशारा
स्वप्न-महलों में बुलाता
जब उषा नवगीत गाती
चौंक कर मैं जाग जाता
और सहसा निकल आते
चाहतों के फिर नए पर

याद की तिर्यक गली में
कहीं खो जाता पुरातन
विहँस कर होता उपस्थित
बाँह फैलाए नयापन
रूपसी प्राची रिझाती
विविध रूपों में सँवर कर


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोक सिंह ठकुरेला की रचनाएँ