hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

एक नदी संवेदना की
रमेश दत्त गौतम


एक नदी बनकर संवेदना
बहना अंतर्मन के पास।

गढ़ना
संबंधों के सेतुबंध
ठहरें न मन के उद्गार
आर पार
जाएँ अनुभूतियाँ
शब्दों को पाकर आधार
लहरों पर
तैरे अभिव्यंजना
नीर-क्षीर करती संत्रास।

कल-कल
ध्वनि पर्वों को साधना
आए न किंचित अवरोध
यात्रा में
भावुक मंदाकिनी
अधरों पर रखना युगबोध
अस्ताचल
सूरज के साथ कहीं
डूबे न हिरनों की प्यास।

गति, लय, स्वर, व्यंजन
में बाँधना
अन्र्तमुख अधरों की पीर
बैरागी बोधिवृक्ष सींचना
भर भरकर
नयनों में नीर
अपनी
मृदुभाषिणी तरंगों से
करुणा का लिखना इतिहास।


End Text   End Text    End Text