hindisamay head


अ+ अ-

कविता

दोमुँहे साए
इसाक ‘अश्क’


जिंदगी
अपनी कटी
अक्सर तनावों में।

एक प्रतिभा की
वजह -
           सारा शहर नाराज
हर समय
हम से रहा -
           हम पर गिराई गाज

दूब-भी
बनकर गड़ी है
कील पाँवों में।

दोस्ती के
नाम पर कुछ
           दो-मुँहे साए
हर समय
मन की मुँडेरों पर
           रहे छाए

साँस तक
लेना हुआ
दूभर अभावों में।


End Text   End Text    End Text