hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हिंदी को नमन
ओम प्रकाश नौटियाल


अंकित अक्षित संस्कार हो                                      
मातॄ भू नमन जयकार हों                          
खुले ज्ञान के सब द्वार हों                          
निज भाषा से पर प्यार हो                                
अलंकृत करे हर अंजुमन                                 
श्रद्धा से हिंदी को नमन                                   
           
अंतरस्थ भाव करे प्रकट                                  
अभिव्यक्ति अंतस के निकट                             
संभव उसी भाषा में बस                                  
मिट्टी की जिसमें गंध रस                                 
इसी सत्य का हो आचमन                                
हिंदी को श्रद्धा से नमन                             

जिस भाषा में अंतरंग से                           
सुख-दुख सदा छँटे बँटे                                         
निरंतर जिसे भाषित किए                                
बालपन से बुढ़ापा कटे                                   
उस भाषा का ना हो दमन                                
हिंदी को श्रद्धा से नमन                             

जो सशक्त करती देश को                                
और ध्वस्त करती द्वेष को                               
नष्टप्राय कर दे पीर को                                  
अपनाए सबके क्लेश को                                 
कष्टों को बाँट करे शमन                                 
हिंदी को श्रद्धा से नमन                             

पर भाषा एक झेली है                                   
हिंद देश में पहेली है                                     
संस्कृत जनित सब भाषाएँ                                
बहने हैं चिर सहेली हैं                                   
पूरित हो निज भाषा वरण                                
हिंदी को श्रद्धा से नमन     
 


End Text   End Text    End Text