hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

आँखों की खुशियाँ
शांति सुमन


जब से तुम को देखा है
बस फूल-फूल है आँखों में।

खुशबू लिखती जाने कब से
पंखुड़ियों में बंद कथाएँ
हिरनी की आँखों की खुशियाँ
जंगल के मन को गमकाए
अब उड़ान ने भाषा पहनी
है चिड़िया की पांखों में।

हवा बदलने को जागी हैं
पेड़ों की तांबई कोंपलें
एक गीत गाने का मन है
हवा अभी से जिधर को चले
दिन सतरंगे सपनों वाले
देखे बंद सलाखों में।

मंदिर के कलशों पर धीरे-
धीरे उतर रही किरनें
जीवन बदल रहा है जैसे
धूप लगी कविता लिखने
मौसम ने हरियाली दे दी
पत्तोंवाली शाखों में।
 


End Text   End Text    End Text