डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

समय की नदी
माहेश्वर तिवारी


हम समय की नदी
            तैर कर आ गए
अब खड़े हैं जहाँ
            वह जगह कौन है।

तोड़ते-जोड़ते
हर नियम, उपनियम
उत्सवों के जिए
साँस-दर-साँस हम

एक पूरी सदी
            तैर कर आ गए
अब खड़े हैं जहाँ
            वह सतह कौन है।

होंठ पर
थरथराती हँसी
रोप कर
आँसुओं को पिया
आँख में उम्र भर

हम कठिन त्रासदी
            तैर कर आ गए
अब खड़े हैं जहाँ
            नागदह कौन है।
 


End Text   End Text    End Text