hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

लौटा हूँ आज घर
प्रेमशंकर शुक्ल


लौटा हूँ आज घर
लिए हुए : एक गठरी आकाश
कुछ अधूरे वाक्य
बाजार की चकाचौंध से उपजी हताशा
दुखते हुए कंधे
और दो आँखें : एक से निहारते हुए होना
छिपाते हुए उदासी दूसरी से।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ