hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

पलकों के ऊपर
प्रेमशंकर शुक्ल


कितनी नींदों के साथ
लिपटे हैं रतजगे भी
पलकों के ऊपर

वह सपना
जो रह गया था
आँखों में उतरते-उतरते
पलकों के ऊपर
निशान हैं उसके भी
उल्टे पाँव लौटने के
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ