hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कहाँ से?
प्रेमशंकर शुक्ल


कहाँ से चुराते हैं - फूल,
ताजगी और गंध
लड़कियाँ यौवन-लज्जारुण हँसी
और इंतजार का इतना धीरज
शब्दो, कहाँ से ढूँढ़ लेते हो तुम
अपने लिए इतने सुंदर युग्म
हम भटकते हैं दिन-रात
एक पद्य से दूसरे पद्य
एक वाक्य से दूसरे वाक्य
पर कहाँ लिख पाते हैं -
एक सुंदर कविता
जिसमें हमें सुंदर जीवन मिल सके।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ