hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

नीली स्याही
प्रेमशंकर शुक्ल


नीली स्याही में
भीगे हुए हैं
कितने रंग के दुख

कितनी उदासी-टूटन-हताशा,
पीड़ा और प्रेम
नीली स्याही में है
गुंजायमान
(जिसका कि सिर्फ नीला रंग नहीं है)

पंक्तित इस नीलाभ में
शामिल है
कितने तरह की चीजों की आवाज
और चुप्पी

आखिर -
नीला ही कितना बचा होगा
नीली स्याही में
जब उड़-सिकुड़ रही हो रंगत
जीवन से लगातार।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ