hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

लिखना
प्रेमशंकर शुक्ल


अक्षरों को शब्दों में लाते
शब्दों को वाक्यों में उतारते
सिर झुकाकर लिखते हुए
मैं लिखने पर ही सोचने लगा -
कि भावनाओं में इतनी ऊँचाई है
कि बिना सिर झुकाए
वे स्याही में उतरती ही नहीं
ठहरती भी नहीं
जब तक उन्हें हम
सजगता से समादृत नहीं करते
सोचता हूँ -
रचना या लिखना
छितराना है अपने को ही
और विरुद्ध होना है
अपनी ही जड़ता के।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ