hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मैदान में
प्रेमशंकर शुक्ल


मैदान में खड़े हैं
कई तरह के पेड़
सब की हरियाली है
अलग-अलग
जबकि जमीन एक है
खड़े हैं : एक-दूसरे को सहते
अपनी-अपनी ऋतुओं में
फूलते-फलते
साथ-साथ रहते
वर्षों से।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ